Farmers Protest: कानपुर समेत आसपास के जिलों में जोर पकड़ रहा किसानों का प्रदर्शन, एकजुटता के साथ कर रहे नारेबाजी और हंगामा

पीएसी बल पहुंचा तो भाकियू कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी।

किसान आंदोलन के समर्थन में शुक्रवार भाकियू टिकैट गुट के कार्यकर्ता जिलाध्यक्ष रवि प्रताप सिंह की अगुवाई में रामादेवी फ्लाई ओवर पहुंचे थे। जहां भाकियू कार्यकर्ताओं ने फ्लाईओवर की जाजमऊ को जाने वाले लेन पर बैठकर प्रदर्शन शुरू किया।

Publish Date:Fri, 27 Nov 2020 02:42 PM (IST) Author: Shaswatg

कानपुर, जेएनएन। पंजाब के किसानों के बाद अब कानपुर और उसके आसपास के जिलों में भी भाकियू ने प्रदर्शन शुरू कर दिया है। यह प्रदर्शन लगातार उग्र ही होता जा रहा है। ऐसे में पुलिस किसानों को शांति बनाए रखने के लिए समझाती नजर आ रही है। पंजाब में किसानों के ऊपर हो प्रशासनिक अत्याचार के खिलाफ भी किसान मुखर हो रहे हैं। आइए जानते हैं कहां कैसी हो रही है हलचल- 

कानपुर - 

भारतीय किसान यूनियन टिकैट गुट ने शुक्रवार को किसान आंदोलन के समर्थन में रामादेवी फ्लाईओवर पर जाम लगाने का प्रयास किया। मामले की भनक लगने पर जब चकेरी पुलिस और पीएसी बल पहुंचा तो भाकियू कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी। किसी तरह पुलिस ने समझा कर फ्लाईओवर की लेन पर बैठे भाकियू कार्यकर्ताओं को उठाया। जिलाध्यक्ष रवि प्रताप सिंह का कहना था कि केंद्र सरकार कृषि बिल जबरन करीब किसानों पर थोपने का काम कर रही है। जो किसान की बर्बादी का कारण बन रहा है। संगठन जब इसके खिलाफ आवाज उठा कर आंदोलन कर रहा है तो उन लोगों को दिल्ली जाने से रोका जा रहा है। केंद्र सरकार द्वारा किया जा रहा किसानों का उत्पीड़न किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इधर प्रदर्शन की जानकारी होने पर चकेरी पुलिस पीएसी बल के साथ फ्लाईओवर पहुंची। जहां आधे घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने फ्लाईओवर की लेन में बैठकर जाम लगाने का प्रयास कर रहे भाकियू कार्यकर्ताओं को उठाया। इस दौरान फ्लाईओवर पर यातायात प्रभावित नहीं हुआ। 

कानपुर में दूसरा प्रदर्शन समाजवादी युवा सिख मोर्चा के द्वारा किया गया। हरियाणा बॉर्डर पर किसानों पर हुए अत्याचार के विरोध में समाजवादी युवा सिख  मोर्चा के कार्यकर्ता गुमटी गुरुद्वारा के बाहर पहुंचे और किसानों के समर्थन में नारे लगाए। कवलजीत सिंह मानू ने कहा कि अन्नदाता पर पानी की बौछार व आंसू गैस के गोले छोड़ना शर्मनाक है। प्रदर्शन में  उज़्मा  सोलंकी, हसन  सोलंकी, गुरप्रीत सिंह, बलदेव सिंह, अमरप्रीत सिंह, साहिब सिंह, मनप्रीत सिंह, उपस्थित रहे।

कानपुर देहात - 

किसान बिल के विरोध में हो रहे प्रदर्शन को लेकर राष्ट्रीय नेतृत्व के आह्वान पर भाकियू कार्यकर्ता शुक्रवार को कलेक्ट्रेट में एकत्र हुए हैं।

विरोध प्रदर्शन को लेकर मंडल उपाध्यक्ष रशीद अहमद आजाद व जिलाध्यक्ष विपिन तिवारी के साथ ही कार्यकर्ताओं की रणनीति तय हो रही है। वहीं स्थिति पर नियंत्रण के लिए भारी पुलिस बल के साथ ही दमकल वाहन व एंबुलेंस भी मुस्तैद है।

 इटावा - 

इटावा मैनपुरी मार्ग पर भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने सैफई के पास जाम लगाया। जिलाध्यक्ष संजीव किसान के नेतृत्व में किसान सड़क पर धरने पर बैठे और नारेबाजी की थोड़ी देर बाद उप जिलाधिकारी हेम सिंह के आ जाने पर उन्हें ज्ञापन देकर चले गए।

भारतीय किसान यूनियन के इस प्रदर्शन को लेकर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था। 

 उन्नाव - 

कृषि सुधार की दिशा में सरकार के अध्यादेश के विरोध में भारतीय किसान यूनियन के टिकैत गुट नेताओं ने शुक्रवार दोपहर दही चौकी के पुरवा मोड़ पर प्रदर्शन किया।

पुलिसकर्मी किसानों को कानपुर-लखनऊ राजमार्ग पर आने से मना करते दिखे। भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष डॉ. शैलेंद्र प्रताप सिंह यादव ने बताया कि किसानों की समस्या को दूर न करते हुए सरकार उनकी परेशानी को और बढ़ा रही है। जिलाधिकारी रवींद्र कुमार को किसान यूनियन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित ज्ञापन भी दिया। यदि मांगों पर ठोस आश्वासन नहीं मिला तो वृहद स्तर पर आंदोलन किया जाएगा। 

 उरई  - 

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बलराम लंबरदार के नेतृत्व में बड़ी संख्या में किसान कानपुर झांसी हाइवे पहुंचे और दोनों तरफ ट्रैक्टर आदि वाहन खड़े कर हाइवे पर जाम लगा दिया।

किसानों का कहना था कि नए कृषि अध्यादेश में सुधार की जरूरत है। तमाम बिंदु हैं जो किसानों के हित में नहीं है। सरकार किसानों के प्रति उदासीनता दिखा रही है जिसको बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

 कन्नौज - 

गुरसहायगंज क्षेत्र के ग्राम इस्माइलपुर स्थित कार्यालय पर भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष समीर सिद्दीकी के नेतृत्व में लोग एकत्र हुए। यहां प्रदर्शन किया।

इस बीच पुलिस कर्मियों से उनकी नोकझोंक भी हुई। 15 मिनट तक धरने पर बैठने के बाद सभी एसडीएम छिबरामऊ देवेश गुप्ता के समझाने पर  मान गए। 

 फर्रुखाबाद - 

केंद्र सरकार द्वारा लागू किये गए बिल को किसान विरोधी बताते हुए भारतीय किसान यूनियन के तहत विरोध प्रदर्शन किया गया। विरोध प्रदर्शन की भनक लगते ही सीओ मोहम्मदाबाद शोहराब आलम की अगुआई में फोर्स पहले ही तैनात हो गया।

भाकियू जिलाध्यक्ष अरविंद शाक्य समथकों के साथ जैसे ही इटावा बरेली हाईवे को की ओर बढ़े, वैसे ही पुलिस ने रोकने की कोशिश की। इस दौरान किसानों और पुलिस अधिकारियों की जमकर नोकझोंक हुई।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.