पीएम मोदी के बाद जनसमर्थन जुटाने 27 नवंबर को महोबा पहुंचेंगी प्रियंका, कानपुर में महारैली को लेकर हुई बैठक

UP Vidhan Sabha Chunav 2022 महोबा की रैली की तैयारियों को लेकर रविवार को प्रदेश अध्यक्ष तिलक हाल पहुंचे। उनके आने से पहले जिला अध्यक्षों ने सभी जिला कमेटियों के पदाधिकारियों प्रदेश कार्यकारिणी के पदाधिकारियों और विधानसभा चुनाव में टिकट मांग रहे प्रत्याशियों को तिलक हाल पहुंचने के निर्देश दिए।

Shaswat GuptaSun, 21 Nov 2021 07:59 PM (IST)
UP Vidhan Sabha Chunav 2022 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद महोबा पहुंचकर जनसमर्थन जुटाएंगी प्रियंका वाड्रा।

कानपुर, जागरण संवाददाता। UP Vidhan Sabha Chunav 2022 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद अब कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा भी महोबा में 27 नवंबर को महारैली करेंगी। इस रैली को सफल बनाने के लिए आसपास के जिलों से बड़ी संख्या में भीड़ जुटाने के प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने तैयारी शुरू कर दी है। भीड़ जुटाने का दारोमदार प्रत्याशियों के कंधे पर है। कानपुर से किसे कांग्रेस पार्टी विधानसभा में टिकट देगी यह महोबा की रैली तय करेगी। रविवार को तिलक हाल पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने भी प्रत्याशियों को ज्यादा से ज्यादा भीड़ के साथ महोबा पहुंचने के निर्देश दिए। प्रदेश कांग्रेस कमेटी कानपुर से दस हजार लोगों की भीड़ जुटाने का लक्ष्य लेकर चल रही है। 

महोबा की रैली की तयारियों को लेकर रविवार को प्रदेश अध्यक्ष तिलक हाल पहुंचे। उनके आने से पहले जिला अध्यक्षों ने सभी जिला कमेटियों के पदाधिकारियों, प्रदेश कार्यकारिणी के पदाधिकारियों और विधानसभा चुनाव में टिकट मांग रहे प्रत्याशियों को तिलक हाल पहुंचने के निर्देश दिए। शाम 6:30 बजे प्रदेश अध्यक्ष पहुंचे तो  उनके सामने भी दावेदारों के समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष ने कनपुर की सभी दस सीटों से टिकट मांगने वाले दावेदारों के साथ बैठक की। एक घंटे से ज्यादा चली, इस बैठक में उन्होंने ज्यादा से ज्यादा लोगों को लेकर महोबा पहुंचने की बात कही जिस पर दावेदारोंने भी रैली स्थल पर ले जाने वाली बसों की संख्या गिना दी। जिले से 100 बसें ले जाने का खाका खींचा गया। प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि प्रतिज्ञा यात्रा के क्रम में ही रैली का आयोजन किया जा रहा है। इसकी तयारियों की समीक्षा के लिए बैठक की है। किसान बिल की वापसी को लेकर लल्लू बोले, यह किसानों की जीत है। देर से ही सही सरकार को यह बात समझ तो आयी कि बिल से किसान खफा हैं। बैठक में उत्तर जिलाध्यक्ष नौशाद आलम मंसूरी, दक्षिण जिलाध्यक्ष डा. शैलेन्द्र दीक्षित, नगर ग्रामीण जिलाध्यक्ष अमित पांडेय के साथ अन्य पदाधिकारी और प्रत्याशी उपस्थित रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.