मस्जिदों में दुआएं, सड़कों पर उतरे पेशइमाम

जागरण संवाददाता, कानपुर : पुलवामा में हुए आतंकी हमले के विरोध में मस्जिदों के पेशइमाम ने सड़कों पर उतरकर प्रर्दशन किया। मदरसों व मस्जिदों में अमन व शांति के लिए दुआ हुई। मदरसा अशरफुल मदारिस गदियाना से आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल के बैनर तले मस्जिदों के इमाम ने रैली निकाली और पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन किया। भारतीय सेना ¨जदाबाद, दोषियों को सजा दो, आतंकवाद मुर्दाबाद, हिन्दुस्तान ¨जदाबाद, पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए गए । रैली की अगुवाई कर रहे मौलाना हाशिम अशरफी ने कहा कि हम शहीद सैनिकों के परिवार के गम में बराबर के शरीक हैं और इस घटना की ¨नदा करते हैं। संचालन मोहम्मद शाह आजम बरकाती ने किया। मौलाना महताब आलम मिस्बाही, मौलाना सोहेब अहमद, मौलाना अहमद रजा, मौलाना मोहम्मद अहमद आजाद, हाफिज मोहम्मद नियाज अशरफी आदि थे ।

उधर मस्जिद मदाह खां परेड पर पेशइमाम मौलाना मोहम्मद मेराज अशरफी ने घायल सैनिकों के जल्द स्वस्थ होने की दुआ कराई। अल्लाह की बारगाह में दुआ की कि शहीद सैनिकों के परिवार को सब्र दें । हाजी मोहम्मद सलीस, हाजी लईक, पप्पू भाई, अजीजुरर्हमान, शाकिर, सलीम आदि थे। इसी तरह शहर के कई मदरसों में शहीद सैनिकों की आत्मा की शांति के लिए कुरानख्वानी की गई ।

उधर आल इंडिया शिया युवा यूनिट व शिया युवा वेलफेयर सोसाइटी की ओर से जूही डिपों चौराहे पर पाकिस्तान के झंडा व पुतला दहन किया गया। शिया धर्मगुरू मौलाना अलमदार हुसैन ने कहा कि आतंकवाद का कोई धर्म नही है। शहाब रिजवी, नायाब आलम, शारिब अब्बास, दानिश रि•ावी, तहसीन हैदर, आमिर अब्बास, तनवीर हुसैन, मोहम्मद जलाली, हैदर हसन, सैयद नकवी, जैद रिजवी, आदि थे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.