Onion Price Hike: भारत में भाव गिराएगा अफगान का प्याज, कानपुर में रोजाना 2400 टन की खपत

प्याज के दाम 60 रुपये से 80 रुपये किलो तक पहुंच गए हैं।
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 09:32 AM (IST) Author: Abhishek Agnihotri

कानपुर, जेएनएन। अफगानिस्तान से प्याज का आयात शुरू होते ही कानपुर में भी आवक बढ़ जाएगी। अभी कानपुर को अपनी खपत की एक-चौथाई प्याज ही मिल पा रही है। केंद्रीय उपभोक्ता मामले और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को दीपावली से पहले ही देश में 25 हजार टन प्याज की आवक की बात कही है। प्याज कारोबारियों के मुताबिक इससे आमद बढ़ेगी और कीमत घटेगी। इससे दीपावली पर प्याज की कीमत तेजी से कम होंगी।

नासिक की प्याज खराब होने के बाद से इस वर्ष संकट छाया हुआ है। रोजाना 2,400 टन प्याज की खपत वाले कानपुर में इस समय 700 टन के अासपास ही आपूर्ति है। नासिक में प्याज खराब होने की वजह से कानपुर में भी कीमतों में उछाल बना है। कानपुर में ज्यादातर प्याज के आढ़ती हैं और उन्हें उसी मूल्य पर प्याज बेचना होता है, जिसपर नासिक में बैठा कारोबारी कहता है। बहुत कम मौकों पर कानपुर के कारोबारी सीधे प्याज खरीद कर खुद का कारोबार करते हैं।

पिछले वर्ष भी प्याज की कीमतें थोक बाजार में 100 रुपये किलो तक पहुंच गईं थीं, इसकी वजह से मिस्र से प्याज का आयात किया गया था। हालांकि वहां की प्याज का स्वाद लोगों को बहुत नहीं भाया था, इसलिए नया प्याज आने पर रेट कम भी हो गए थे और मिस्र का प्याज पड़ा रह गया था। इस बार अफगानिस्तान से प्याज मंगाया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री ने दीपावली से पहले प्याज आने की बात कही है। नासिक के प्याज की नई फसल 20 नवंबर के बाद आएगी।

प्याज के थोक कारोबारी हरीशंकर गुप्ता के मुताबिक अफगानिस्तान से प्याज आने के बाद त्योहार पर कीमतें थाम जाएंगी। जबतक 25 हजार टन प्याज की खपत होगी, तब तक नई फसल आ जाएगी। अफगानिस्तान से प्याज आने की वजह से अगर किसी ने प्याज रोककर रखा होगा तो वह भी बाजार में आ जाएगा। इससे और पहले ही प्याज की कीमतों में गिरावट आ सकती है। इस समय थोक बाजार में 60 रुपये और फुटकर में 80 रुपये किलो प्याज बिक रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.