मोदी राजनीतिक असहिष्णुता के शिकार : नकवी

सरकार की चार साल की उपलब्धियां गिनाते हुए केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी विपक्षी दलों पर बराबर हमलावर रहे। सरकार के कार्यकाल को आर्थिक-सामाजिक ढांचे की मजबूती का दौर बताकर कहा कि जीएसटी, नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक सरकार के बड़े आंदोलन रहे। साथ ही बोले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुर्सी संभालते ही कुछ लोग देश में असहिष्णुता का माहौल बताने लगे थे, जबकि राजनीतिक असहिष्णुता के सबसे बड़े शिकार मोदी ही हैं।

JagranTue, 29 May 2018 08:01 PM (IST)
मोदी राजनीतिक असहिष्णुता के शिकार : नकवी

जागरण संवाददाता, कानपुर : सरकार की चार साल की उपलब्धियां गिनाते हुए केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी विपक्षी दलों पर बराबर हमलावर रहे। सरकार के कार्यकाल को आर्थिक-सामाजिक ढांचे की मजबूती का दौर बताकर कहा कि जीएसटी, नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक सरकार के बड़े आंदोलन रहे। साथ ही बोले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुर्सी संभालते ही कुछ लोग देश में असहिष्णुता का माहौल बताने लगे थे, जबकि राजनीतिक असहिष्णुता के सबसे बड़े शिकार मोदी ही हैं।

केंद्रीय मंत्री नकवी ने सर्किट हाउस में प्रेसवार्ता में कहा कि मोदी के गुजरात से दिल्ली तक के सफर में वह लगातार असहिष्णुता झेलते रहे। उनकी राह में रोड़े लगाए जाते रहे, लेकिन जनता उनके खिलाफ साजिश करने वालों को निपटाती रही। नकवी ने तंज कसते हुए कहा कि बेईमानों की मंडली और करप्शन की कुंडली वालों की समस्या प्रधानमंत्री का समावेशी-सर्वस्पर्शी विकास का संकल्प है। आज विकास देश का मिजाज बन चुका है। हम पिछली केंद्र सरकार के दस साल के नाकामियों के निशान मिटाकर कामयाबी के कदमों के पुख्ता निशान बनाने में कामयाब रहे हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बदलते भारत की तारीफ दुनिया में हो रही है। सब जान गए हैं कि भारत विश्वगुरु बनने की राह पर चल पड़ा है। पिछले चार वर्ष में भारत विश्व की पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। विदेशी मुद्रा भंडार लगभग 419 बिलियन डॉलर हो गया है। साथ ही कहा कि एलपीजी, संसद और हज की सब्सिडी खत्म करने का बड़ा कदम मोदी सरकार ने उठाया। राजनीतिक पारदर्शिता लेकर आए। उन्होंने विभिन्न योजनाओं के आंकड़े भी प्रस्तुत किए।

बैंकों में हो रहे फ्रॉड के सवाल पर बोले कि नीरव मोदी जैसे लोग बेनामी कंपनियां बनाकर बैंकों से धन लूटते रहे। यह हमारे कार्यकाल में नहीं हुआ। पहले की सरकार ने ध्यान ही नहीं दिया। हमने तीन लाख बेनामी कंपनियों पर कार्रवाई की।

---

हलाल होंगे झटके वाले

फूलपुर, गोरखपुर और कर्नाटक में झटके के बाद कैराना चुनाव पर उनका जवाब मांगा तो बोले कि झटका देने वाले अब हलाल होंगे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.