प्यार पर लगा पहरा तो मौत को गले लगाया, चित्रकूट में ट्रेन के सामने कूद गए प्रेमी युगल

चित्रकूट में मुंबई-हावड़ा रेल रूट पर शव पड़े मिले।

मध्यप्रदेश के रीवां के रहने वाले प्रेमी युगल घर से भागकर चित्रकूट पहुंच गए थे। उनके बीच काफी समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था जिसकी जानकारी स्वजन को हो गई थी। उनके शव चित्रकूट में मुंबई-हावड़ा रेलवे ट्रैक पर पड़े मिले हैं।

Abhishek AgnihotriThu, 04 Mar 2021 10:46 AM (IST)

चित्रकूट, जेएनएन। प्यार पर पहरा लगा तो प्रेमी युगल ने मध्यप्रदेश के रीवां से चित्रकूट आकर जान दे दी। मानिकपुर में मुंबई-हावड़ा रेल रूट पर पर दोनों ने ट्रेन के सामने कूदकर मौत को गले लगा लिया। दोनों की शिनाख्त के बाद पुलिस ने स्वजन को सूचना देकर पड़ताल शुरू की है। मध्यप्रदेश के चाकघाट थाने में उनकी गुमशुदगी दर्ज होने की जानकारी मिली है।

मध्यप्रदेश के रीवां के चाकघाट थानांतर्गत क्षेत्र में रहने वाले किराना दुकानदार के बेटे का पड़ोस की ही युवती से प्रेम संबंध थे। दोनों छिप छिपकर मिलते थे और साथ जीने मरने की कसमें खा चुके थे। कुछ वर्षों से चल रहे प्रेम प्रसंग की जानकारी स्वजन को हुई तो प्यार पर पहरा लगा दिया गया। शादी का प्रस्ताव रखा गया तो स्वजन तैयार नहीं हुए। प्यार मुकम्मल होता न देखकर प्रेमी युगल घर छोड़कर भाग निकले। स्वजन ने चाकघाट थाना में गुमशुदगी दर्ज करा दी थी।

प्रेमी युगल एक सप्ताह से भटकते हुए चित्रकूट के मानिकपुर स्टेशन आ गए। बुधवार की रात दोनों मुंबई-हावड़ा रेलखण्ड के मानिकपुर पनहाई सेक्सन के बीच गुरौला गांव के पास पहुंच गए। गुरुवार की सुबह दोनों के शव रेलवे ट्रैक पर पड़े मिले। रात में किसी समय प्रेमी युगल ने ट्रेन के सामने कूदकर मौत को गले लगा लिया। मानिकपुर पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर शिनाख्त के बाद स्वजन को सूचना दी। मानिकपुर थाना प्रभारी सुभाष चन्द्र चौरसिया ने बताया कि प्रेमी युगल के पास मिले आधार कार्ड से उनकी पहचान की गई है। दोनों ने ट्रेन के आगे कूद कर जान दी है। चाकघाट थाना में गुमशुदगी दर्ज है, स्वजन को बुलाया गया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.