महोबा में दूल्हे को कंगाल कर गई दुल्हन, सुहागरात से पहले लूट ले गई नकदी, जेवर और सारा सामान

महोबा में शादी के बाद मंडप पूजन को लेकर दूल्हा-दुल्हन अलग अलग कमरे में लेट रहे थे। पूजन वाले दिन सुबह जब दुल्हन अपने कमरे से गायब मिली तो लुटेरी दुल्हन की हकीकत समझने में परिवार को देर नहीं लगी।

Abhishek AgnihotriFri, 25 Jun 2021 03:37 PM (IST)
महोबा में लुटेरी दुल्हन ने दूल्हे को ठगा।

कानपुर, जेएनएन। बेटे की शादी को लेकर माता-पिता काफी परेशान थे, जब शादी हुई तो घर आई दुल्हन ने दो दिन में दूल्हे को कंगाल कर दिया। सुहागरात से पहले दुल्हन गाढ़ी कमाई से बनवाया जेवर, नकदी और घर में रखा कीमती सामान लूटकर घर से फरार हो गई।

लुटेरी दुल्हन के बारे में जब पता चला तो दूल्हा और परिवार अब सिर पर हाथ रखकर उस घड़ी को कोस रहे हैं, जब सात फेरे लिये थे। मामला महोबा जनपद में सदर कोतवाली क्षेत्र का है, पुलिस ने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

महोबा शहर के भटीपुरा मोहल्ला निवासी शैलेंद्र की शादी को लेकर घर वाले परेशान थे और परिचितों से रिश्ता तय करने के लिए कहते आ रहे थे। कोतवाली में दी तहरीर में बताया गया है कि कुछ दिन पहले शैलेंद्र की मां की मौसी बम्हौरीकला चरखारी निवासी विनोद कुमारी से शादी को लेकर बातचीत हुई थी।

इसी बीच बम्हौरीकला के रहने वाले पप्पू 16 जून को उसकी मां के पास आया था। उसने एक गरीब घर की लड़की के बारे में बताया था और उससे शादी कराने की बात कही थी। उसने लड़की का नाम सीता और शादी का खर्च खुद ही उठाने की बात कही थी। इसपर घरवाले राजी हो गए थे।

अलग अलग कमरों में सो रहे दूल्हा-दुल्हन

पप्पू के कहने पर 18 जून को सीता को रिवई गांव बुलाया गया था, जहां रिश्ता तय होने के बाद एक लाख रुपये पप्पू और साथ में आए हरदयाल ने लिए थे। तय तारीख के अनुसार 21 जून को शहर के चंद्रिका देवी मंदिर में शैलेंद्र की शादी सीता से कराई गई थी। सात फेरों की रस्म पूरी करने और खान पान आदि कार्यक्रम के बाद नव विवाहित जोड़ा घर आ गया था। इसके बाद घर में कंकन काटने और मंडप पूजन की रस्म होनी थी लेकिन यह सब दो दिन बाद शुभ समय होना तय था। इसलिए दूल्हा और दुल्हन को अलग-अलग कमरे में रखा गया था।

दो दिन बाद अचानक दुल्हन हुई गायब

दो दिन बाद जब मंडप पूजन का समय आया तो सुबह दुल्हन को कमरे से गायब देखा। आसपास तलाश करने पर भी वह नहीं मिली तो घर वालों को शक हुआ और तिजोरी व बक्सों की तलाशी ली। बक्से में रखी दूल्हे के परिवार की पूरी कमाई, जेवर और सारा सामान गायब था। लुटेरी दुल्हन की हकीकत समझते देर न लगी और कंगाल हो चुका परिवार सिर पर हाथ रखकर बैठ गया। इसके बाद शैलेंद्र ने पप्पू और हरदयाल को घटना की जानकारी दी।

शैलेंद्र ने बताया कि रिवई चौकी में शिकायत करने पर हरदयाल को बुलवाया गया। इसपर उसने कहा था कि दो दिन के अंदर रुपया वापस कर दूंगा या फिर लड़की ले आऊंगा। कई दिन बाद भी रुपया और दुल्हन का पता न चलने पर उसने महोबा सदर कोतवाली में तहरीर दी है। कोतवाली प्रभारी बलराम सिंह ने बताया कि मामला पहले रिवई चौकी में दर्ज हुआ था, वहां दोनों पक्षों के बीच पंचायत भी हुई थी। दुल्हन के मिर्जापुर अपने मामा के पास जाने की जानकारी मिली है। धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करके जांच की जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.