Kanpur Weather Update: पारा लुढ़कने से बढऩे लगी सिहरन, 6.6 दर्ज किया गया न्यूनतम तापमान

कानपुर शहर में सुबह और शाम का तापमान तेजी से गिर रहा है।

बंगाल की खाड़ी में उठने वाले चक्रवाती तूफान से दक्षिण भारत के राज्यों में बारिश और तेज हवा चलेगी। मौसम विज्ञानी कहते हैं कि मैदानी क्षेत्र तक आते आते तूफान कमजोर हो जाता है जिससे कानपुर समेत अन्य जिलाें में मामूली आंशिक असर की ही संभावना है।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 07:26 AM (IST) Author: Abhishek Agnihotri

कानपुर, जेएनएन। बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान 'निवार' सक्रिय हो गया है। इसकी वजह से पश्चिम बंगाल, ओडीशा, तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश आदि राज्यों में जोरदार बारिश और तेज हवा चलने के पूरे असार हैं। यह हवा में तो काफी तेज रहता है, लेकिन तटीय क्षेत्रों व मैदानी इलाकों में आंशिक ही असर रहने की संभावना जताई जा रही है।

पहाड़ी क्षेत्रों की ओर बढ़ रहा पश्चिमी विक्षोभ

दूसरी ओर पश्चिमी विक्षोभ पहले ही पहाड़ी क्षेत्रों की ओर बढ़ रहा है। इसकी वजह से शुष्क हवा मैदानी क्षेत्रों में आ रही हैं, जबकि बंगाल की खाड़ी की ओर से नमी लिए हवा आनी शुरू हो गई हैं। दोनों ओर की विपरीत हवाएं मौसम की चाल बदल सकती हैं। मौसम विज्ञानी लगातार नजर रखे हुए हैं। मौजूदा समय में कैस्पियन सागर की ओर से शुष्क हवा इराक, ईरान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान से होते हुए भारत में पहुंच रही है।

जमीन पर आने पर पड़ जाता है कमजोर

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय के मुताबिक निवार का असर कानपुर में न के बराबर है। मंगलवार को चक्रवाती तूफान के सटीक ट्रैक का पता चल जाएगा। अधिकतर हवा में तूफान काफी घातक रहता है, लेकिन उसके जमीन पर आने पर कुछ कमजोर हो जाता है। निवार में भी कुछ ऐसी ही आशंका बन रही है। 

मंगलवार को कुछ यूं रहा मौसम का मिजाज

मंगलवार को अधिकतम तापमान 24.8 डिग्री सेल्सियस रहा, जो सामान्य से 1.9 डिग्री कम था। वहीं न्यूनतम तापमान 6.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 4.7 डिग्री कम था। सापेक्षिक आद्र्रता अधिकतम 92 प्रतिशत और न्यूनतम 33 फीसद रही। वहीं, 1.1 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से उत्तर पूर्वी हवा चलती रही। मौसम विज्ञानियों द्वारा ऐसा पूर्वानुमान लगाया जा रहा है कि इस सप्ताह मध्य उत्तर प्रदेश के व्लाक एवं जिला स्तर पर आसमान में हल्के बादल छाए रहेंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.