कानपुर में रोहिंग्या और संदिग्ध बांग्लादेशियों की तलाश में शुरू हुआ मेगा अभियान, पुलिस कमिश्नर का आदेश

कानपुर में आतंकी गतिविधियां सामने आने के बाद कानपुर पुलिस खास सतर्क हो गई है। पनकी में रहने वाली दो महिलाओं के आतंकियों के संबंध सामने आने के बाद पुलिस ने अब हर संदिग्ध इलाकों में सर्च ऑपरेशन शुरू किया है।

Abhishek AgnihotriSat, 31 Jul 2021 10:52 AM (IST)
कानपुर में बांग्लादेशियों और रोहिंग्या की तलाश शुरू।

कानपुर, जेएनएन। लखनऊ में मानव तस्करी में शामिल रोहिंग्या और संदिग्ध बांग्लादेशियों की गिरफ्तारी के बाद एटीएस के साथ ही कमिश्नरेट पुलिस भी सतर्क हो गई है। पुलिस आयुक्त ने संदिग्धों के दस्तावेज जांचने के आदेश सभी थाना प्रभारियों को दिए हैं। आदेश के बाद पनकी पुलिस ने अपने यहां स्थित बस्ती में दस्तावेज जांचने का काम भी शुरू कर दिया। लगभग दो सौ लोगों के दस्तावेज चेक किए गए।

एलआइयू रिपोर्ट के मुताबिक कानपुर में एक भी रोङ्क्षहग्या नहीं है। जबकि हाल ही में अलकायदा आतंकवादियों की गिरफ्तारी के बाद एटीएस को जानकारी मिली है कि कानपुर के कई इलाकों में रोङ्क्षहग्या नाम व पहचान छिपाकर रह रहे हैं। अब लखनऊ में मानव तस्करी में रोहिंग्या नागरिकों की गिरफ्तारी के बाद एक बार फिर जांच की जरूरत महसूस की जा रही है। एटीएस ने कानपुर में रोहिंग्या तलाशने का काम अपने स्तर से शुरू किया है। उन्होंने पूर्व में फर्जी आधार कार्ड बनाने वाले गिरोहों के जरिए जांच शुरू की है। एटीएस का मानना है कि इन गिरोहों के मार्फत रोङ्क्षहग्या या संदिग्ध बांग्लादेशी स्थानीय नागरिक बनकर निवास कर रहे हैं।

वहीं दूसरी ओर कमिश्नरेट पुलिस ने भी खोजी अभियान शुरू कर दिया है। पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने बताया कि उन्होंने सभी थाना प्रभारियों को एक आदेश जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि ऐसे स्थान जहां पूर्व में रोहिंग्या या संदिग्ध बांग्लादेशी पकड़े गए हैैं। ऐसे स्थान जहां इनके मददगार प्रकाश में आए। वहां अभियान चलाकर सभी की शिनाख्त की जाए। जो लोग संदिग्ध मिलें, उनकी जांच की जाए। पुलिस आयुक्त ने बताया कि शुक्रवार को पनकी पुलिस ने विभिन्न संदिग्ध बस्तियों में दो सौ लोगों के दस्तावेज चेक किए। शनिवार से अभियान पूरे कमिश्नरेट में चलेगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.