Kanpur Health News: मौरंग मंडी में 100 बेड के अस्पताल को मिली हरी झंडी, जल्द ही मिलेगा कांट्रैक्ट

अभी दक्षिण इलाके में कोई सरकारी अस्पताल नहीं है जहां लोगों का इलाज हो जाए । हादसा होने पर या फिर गम्भीर बीमारियों के इलाज के लिए लोगों को गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल चिकित्सा महाविद्यालय से संबंद्ध LLR अस्पताल आना पड़ता है या फिर उर्सला अस्पताल जाना पड़ता है।

Shaswat GuptaThu, 23 Sep 2021 03:42 PM (IST)
कानपुर के अस्पतालों से संबंधित प्रतीकात्मक फोटो।

कानपुर, जेएनएन। दक्षिण क्षेत्र के लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है। विधानसभा चुनाव से पहले राज्य सरकार ने नोबस्ता मौरंग मंडी में 100 बेड के अस्पताल को मंजूर कर दिया है और बजट स्वीकृति के लिए वित्त विभाग को भेज दिया है। वित्त विभाग की बैठक इसी हफ्ते होने की उम्मीद है। वहां से प्रोजेक्ट मंजूर होते ही शासन स्तर से निर्माण के लिए कार्यदायी संस्था का चयन किया जाएगा जो टेंडर कर किसी कम्पनी को ठेका देगी। इस अस्पताल के बन जाने से न सिर्फ दक्षिण के लाखों लोगों को लाभ मिलेगा बल्कि घाटमपुर, भीतरगांव, बिधनू, पतारा के लोगों का इलाज भी आसानी से हो जाएगा। 

शहर दो हिस्सों में बंटा हुआ है। अभी दक्षिण इलाके में कोई सरकारी अस्पताल नहीं है जहां लोगों का इलाज हो जाए । हादसा होने पर या फिर गम्भीर बीमारियों के इलाज के लिए लोगों को गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल चिकित्सा महाविद्यालय से संबंद्ध लाला लाजपत राय ( हैलट ) अस्पताल आना पड़ता है या फिर उर्सला अस्पताल जाना पड़ता है। कोरोना की पहली लहर रही हो या दूसरी यहां के लोगों को उपचार के लिए भटकना पड़ा। इसी तरह जब हमीरपुर  हाइवे पर कोई हादसा होता है तो वहां से हैलट लोगों को लाया जाता है कि बार जाम में एम्बुलेंस फंड जाती है और पीड़ित की मौत हो जाती है। इस समस्या के समाधान के लिए ही विधायक महेश त्रिवेदी ने मौरंग मंडी में 100 बेड के अस्पताल का।प्रस्ताव दिया था। केडीए ने वहां भूमि भी आवंटित कर दिया। इसके बाद शासन की टीम ने मौका मुआयना किया और अब प्रोजेक्ट मंजूर हो गया है। स्वास्थ्य विभाग से यह फ़ाइल अपर मुख्य सचिव वित्त को भेजी गई है। वित्त विभाग की कमेटी इसका परीक्षण कर।रही है। परीक्षण के बाद उसे मंजूरी मिलेगी। इस अस्पताल के बनने से किदवई नगर, बर्रा, खाड़ेपुर, बिधनू, हंसपुरम, बिधनू, साढ़, घटमपुर, पतारा, भीतरगांव के लोगों का यहां उपचार हो जाएगा। साथ ही हादसे के घायलों को भी बेहतर उपचार मिलेगा। वैसे तो घाटमपुर में भी एक 200 बेड का असप्तसल प्रस्तावित है। इस प्रोजेक्ट भी परीक्षण किया जा रहा है। सबकुछ ठीक रहा तो इसे बागी जल्द मंजूरी मिल जाएगी। यह अस्पताल सुपर स्पेशियलिटी सुविधाओं से युक्त होगा। इसका प्रस्ताव विधायक उपेंद्र पासवान ने किया है। इसे भी मंजूर करने के लिए परीक्षण की प्रक्रिया चल रही है। इसके बनने के बाद तो हमीरपुर, महोबा, जहानाबाद के लोगों का भी आसानी से उपचार हो सकेगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.