नेपाल के छात्रों को एमटेक व पीएचडी कराएगा आइआइटी कानपुर, शैक्षिक आदान-प्रदान पर हुआ करार

नेपाल के काठमांडू स्थित त्रिभुवन विवि के इंजीनियरिंग संस्थान से करार हुआ है दोनों संस्थानों के प्रतिनिधियों ने समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए। जल्द ही आइआइटी के शिक्षकों का एक विशेष दल जाएगा। संस्थान में होने वाली शैक्षिक गतिविधियों में छात्र और शिक्षक शामिल होंगे।

Abhishek AgnihotriSun, 14 Nov 2021 07:48 AM (IST)
नेपाल के काडमांडू की त्रिभुवन विश्वविद्यालय से करार।

कानपुर, जागरण संवाददाता। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) अब नेपाल के इंजीनियरिंग व टेक्नोलाजी के छात्र-छात्राओं को एमटेक और पीएचडी करने का अवसर उपलब्ध कराएगा। यही नहीं, आइआइटी के छात्र भी शोध व शिक्षण कार्य के लिए नेपाल जा सकेंगे। शुक्रवार को आइआइटी ने नेपाल के त्रिभुवन विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग संस्थान से शैक्षिक आदान प्रदान के इसी मसौदे पर करार किया है। जल्द ही आइआइटी के शिक्षकों का विशेष दल त्रिभुवन विश्वविद्यालय भी जाएगा।

नेपाल के काठमांडु में कीर्तिपुर स्थित त्रिभुवन विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग संस्थान (आइओई) में करीब तीन हजार छात्र अध्ययनरत हैं। यहां सिविल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रानिक्स, जियोमैटिक्स, एग्रीकल्चर, एयरोस्पेस, आटोमोबाइल, कंप्यूटर, आर्किटेक्चर, इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग में डिग्री दी जाती है। संस्थान के निदेशक ने अकादमिक सहयोग और अनुसंधान साझेदारी के लिए आइआइटी से भी मदद मांगी थी। साथ ही शैक्षिक आदान प्रदान कार्यक्रमों के आयोजन को लेकर रूपरेखा तैयार की थी। इसी के तहत आइआइटी के निदेशक प्रो.अभय करंदीकर और आइओई के डीन प्रो. शशिधर जोशी की उपस्थिति में दोनों संस्थानों के प्रतिनिधियों ने समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए।

प्रो.करंदीकर ने बताया कि आइआइटी और त्रिभुवन विश्वविद्यालय के बीच आपसी सहयोग का लंबा इतिहास है। समझौते का उद्देश्य दोनों संस्थानों के बीच साझेदारी को और मजबूत करना है। अब दोनों संस्थान विभिन्न संकायों, छात्रों व तकनीकी के आदान-प्रदान कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे और विज्ञान, इंजीनियरिंग व मानविकी को बढ़ावा देने वाले अनुसंधान और गतिविधियों में सहयोग करेंगे। इस दौरान आइओई से वाइस डीन प्रो. सुशील बी बजराचार्य, रजिस्ट्रार प्रो. पेशल दहल, प्रो. त्रिरत्न बजराचार्य, प्रो भोला घिमिरे व प्रो. इंद्र आचार्य और आइआइटी से प्रो. समीर खांडेकर व प्रो. योगेश एम जोशी भी मौजूद रहे।

एमओयू पर हस्ताक्षर : आइआइटी के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर की उपस्थिति में संस्थान के डीन आफ इंटरनेशनल रिलेशंस प्रो. योगेश जोशी ने और त्रिभुवन यूनिवर्सिटी के इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरिंग के डीन प्रो. शशिधर जोशी ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए। हस्ताक्षर समारोह त्रिभुवन विवि के प्रतिनिधिमंडल की यात्रा के दौरान आयोजित किया गया। संस्थान के अधिकारियों ने बताया कि इस दौरान नेपाल से आए प्रतिनिधिमंडल को संस्थान की सुविधाओं के बारे में बताया गया। प्रतिनिधियों ने सेंटर फार एनर्जी रेगुलेशन, पर्यावरण विज्ञान भवन (थर्मल स्टोरेज और एयर कंडीशनिंग सुविधा) और मैकेनिकल इंजीनियङ्क्षरग विभाग की प्रयोगशालाएं देखीं। आइआइटी की हवाई पट्टी व फ्लाइट लैब सुविधाएं भी दिखाई गईं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.