IIT Kanpur: हिंदी में भी आसानी से होगी मैथमेटिकल माडलिंग, छात्रों के लिए फ्री है आर-साफ्टवेयर

हिंदी भाषी छात्रों के लिए मैथमेटिकल माडलिंग आसान बनाने के लिए आइआइटी के प्रोफेसर शलभ ने 40-40 घंटे के दो लेक्चर तैयार किए हैं। छात्र स्वयंप्रभा व एनपीटीईएल से लेक्चर समझेंगे और कोर्स के रूप में भी पूरी तरह निश्शुल्क रहेगा।

Abhishek AgnihotriSat, 18 Sep 2021 09:00 AM (IST)
आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर ने हिंदी में लेक्चर बनाए हैं।

कानपुर, जेएनएन। अब हिंदी भाषी छात्रों के लिए भी मैथमेटिकल माडलिंग करना बेहद आसान होगा। इसके लिए आइआइटी कानपुर के गणित विभाग के प्रो. शलभ ने एक्सप्लोरेटरी स्टेटिस्टिक्स डाटा एनालिसिस विथ आर साफ्टवेयर के नाम से 40-40 घंटे के लेक्चर हिंदी में तैयार किए हैं। इन्हें आनलाइन समझा जा सकता है।

सरकार की ओर से निश्शुल्क शैक्षणिक चैनल स्वयंप्रभा और नेशनल प्रोग्राम आन टेक्नोलाजी एनहेंस्ड लर्निंग (एनपीटीईएल) पर इन्हें अपलोड किया गया है। छात्र-छात्राएं एनपीटीईएल से कई कोर्स भी करते हैं, जिसमें माडलिंग संबंधित कोर्स भी निश्शुल्क कर सकेंगे। आर साफ्टवेयर निश्शुल्क है, जो मैथमेटिकल माडलिंग में काम आता है।

शोधार्थियों और इंजीनियरिंग छात्रों के लिए मैथमेटिकल माडलिंग का अलग महत्व है। इसकी मदद से किसी घटना या गतिविधि के भविष्य के नतीजों का सटीक आकलन किया जा सकता है। इसमें पृथ्वी से उपग्रह की दूरी, संक्रमण या रोग का प्रसार, मौसम व अन्य घटनाक्रम शामिल हैं। शोधार्थी मैथमेटिकल माडलिंग का प्रयोग कर लेते हैं, लेकिन कई बार हिंदी भाषी क्षेत्र वालों को इसमें दिक्कत आती है।

प्रो. शलभ के मुताबिक, आर साफ्टवेयर को किस तरह से इस्तेमाल किया जाए, इसकी पूरी जानकारी दी गई है। अंग्रेजी में तो देश और विदेश में कई लेक्चर हैं, लेकिन हिंदी भाषी छात्रों के लिए इस तरह की कोई व्यवस्था नहीं थी। छात्र स्वयंप्रभा और एनपीटीईएल से दोनों लेक्चर समझ सकते हैं। यह पूरी तरह से निश्शुल्क है। उन्होंने बताया कि इससे सांख्यिकी माडलिंग भी की जा सकती है। विज्ञान वर्ग से 12वीं पास छात्र भी मैथमेटिकल माडलिंग के कोर्स को कर सकते हैं।

हिंदी में यह भी तैयार कर रहे लेक्चर

वहीं, आइआइटी के ह्यूमैनिटीज एंड सोसल साइंस विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. ब्रजभूषण भी साइक्लाजी पर हिंदी में लेक्चर तैयार कर रहे हैं। संस्थान के काग्नेटिव साइंस के प्रो. अर्क सिंह हिंदी भाषा और शब्दावली पर शोध कर रहे हैं। उनका हिंदी में लेक्चर जल्द ही आएगा।

क्या है मैथमेटिकल माडलिंग

मैथमेटिकल माडलिंग से सटीक गणना की जा सकती है। कोरोना संक्रमण की शुरुआत से अब तक आइआइटी के प्रोफेसर पद्मश्री मणीन्द्र अग्रवाल मैथमेटिकल माडलिंग के माध्यम से ही केस बढऩे या घटने को लेकर सटीक आकलन कर रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.