शबद कीर्तन से संगत होगी निहाल, अलौकिक यात्रा पुरातन हस्तलिखित गुरुग्रंथ साहिब की छत्रछाया में होगी शुरु

सुबह अपने अपने क्षेत्रों से निकल कर प्रभात फेरियां मोतीझील में एकत्र होंगी

श्री गुरु सिंह सभा लाटूश रोड के प्रधान सरदार हरविन्दर सिंह लार्ड बताया कि प्रकाशोत्सव समारोह मोतीझील में कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए मनाया जाएगा। 18 जनवरी को प्रस्तावित नगर कीर्तन रद्द कर दिया गया है। प्रभात फेरियां अपने-अपने क्षेत्रों से मोतीझील में एकत्र होंगी

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 03:29 PM (IST) Author: Akash Dwivedi

कानपुर, जेएनएन। गुरु गोविंद सिंह जी का प्रकाशोत्सव 20 जनवरी को मनाया जाएगा। इसको लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। प्रकाशोत्सव पर जहां मोतीझील में शबद कीर्तन व लंगर होगा वहीं रविवार को सुबह गोविंद नगर से पटना साहिब के लिए अलौकिक यात्रा निकाली जाएगी। अलौकिक यात्रा पुरातन हस्तलिखित गुरुग्रंथ साहिब की छत्रछाया में शुरु होगी। गुरु गोविंद सिंह जी का प्रकाशोत्सव मोतीझील में मनाने की तैयारियां तेज हो गई है। 18 से 20 जनवरी तक प्रकाशोत्सव मनाया जाएगा। प्रकाशोत्सव पर कोरोना की वजह से नगर कीर्तन नहीं निकाला जाएगा। हालांकि बाकी कार्यक्रम पिछले वर्षों की तरह आयोजित किये जाएंगे। सुबह अपने अपने क्षेत्रों से निकल कर प्रभात फेरियां मोतीझील में एकत्र होंगी। यहां उनका सम्मान किया जाएगा। 

श्री गुरु सिंह सभा लाटूश रोड के प्रधान सरदार हरविन्दर सिंह लार्ड बताया कि प्रकाशोत्सव समारोह मोतीझील में कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए मनाया जाएगा। 18 जनवरी को प्रस्तावित नगर कीर्तन रद्द कर दिया गया है। प्रभात फेरियां अपने-अपने क्षेत्रों से मोतीझील में एकत्र होंगी, जहां श्री गुरु सिंह सभा उनका सम्मान करेगी। प्रकाशोत्सव समारोह में रागी जत्थे शबद कीर्तन से संगत को निहाल करेंगे। 18 जनवरी को भाई अमरीक सिंह, भाई सुखविंदर सिंह, मोहन सिंह, भाई भूपिंदर सिंह कीर्तन करेंगे। 19 जनवलरी को कीर्तन के बाद अरदास व दीवान की समाप्ति पर लंगर की तैयारी होगी। 20 जनवरी को सुखमनी साहिब का पाठ, सिमरन साधना,  नितनेम, कीर्तन होगा। वर्ष की तरह गुरु का लंगर होगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.