कानपुर के स्कूलों में भगवान भरोसे व्यवस्था, 80 फीसद से अधिक शिक्षक कर रहे बीएलओ ड्यूटी, ठप हुई पढ़ाई

अब इस सत्र में तो इन विद्यालयों का बेड़ा ही गर्क हो गया है। आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से 80 फीसद से अधिक शिक्षकों की बीएलओ ड्यूटी लगा दी गई है। स्कूलों में इस वजह से पढ़ाई पूरी तरह ठप हो चुकी है

Shaswat GuptaSun, 28 Nov 2021 04:36 PM (IST)
स्कूल की खबरों से संबंधित प्रतीकात्मक फोटो।

कानपुर ,जागरण संवाददाता। जब शिक्षा विभाग द्वारा नया सत्र शुरू होता है, तो हर साल ही परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए अफसरों द्वारा बड़ी-बड़ी डींगें हांकी जाती हैं। गुणवत्ता तो बहुत दूर की बात होती है, अगर इन विद्यालयों के गुरु जी समय से स्कूल चले जाएं तो गनीमत समझ लीजिए।

अब इस सत्र में तो इन विद्यालयों का बेड़ा ही गर्क हो गया है। आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से 80 फीसद से अधिक शिक्षकों की बीएलओ ड्यूटी लगा दी गई है। स्कूलों में इस वजह से पढ़ाई पूरी तरह ठप हो चुकी है और अफसर भी यह मान रहे हैं, कि इन स्कूलों का अब कुछ नहीं हो सकता। वह पूरी तरह से इस मामले में निरुत्तर हैं।

भगवान भरोसे चल रही व्यवस्था: वैसे तो इन स्कूलों में गणित, विज्ञान, शारीरिक शिक्षा के अलग-अलग शिक्षक नियुक्त हैं। हालांकि, इन दिनों स्थिति यह है कि यहां की व्यवस्था भगवान भरोसे चल रही है। एक स्कूल में एक शिक्षक ही कक्षा एक से लेकर पांचवीं तक बच्चों को पढ़ा रहे हैं। कहीं-कहीं तो शिक्षकों के पास कक्षा एक से लेकर आठवीं तक के छात्र हैं। अब,यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहेगा।

विभाग की ओर से बन रहा सरल एप, मूल्यांकन में होगा मददगार: बीएसए डा.पवन तिवारी ने बताया कि विभाग की ओर से सरल एप तैयार कराया जा रहा है। जिसकी मदद से बच्चों के मूल्यांकन का काम किया जाएगा। इस एप के बनने से बच्चों की परीक्षाओं की भी आस जगी है। हालांकि, सत्र के शुरू होने के कुछ माह बाद ही महानिदेशक बेसिक शिक्षा की ओर से किसी भी तरह की परीक्षा न कराए जाने के आदेश जारी किए गए थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.