कानपुर के बिठूर से आठवीं की छात्रा लापता

कानपुर के बिठूर से आठवीं की छात्रा लापता

जेएनएन बिठूर थाना क्षेत्र के बगदौधी बांगर गांव निवासी एक मजदूर की 13 वर्षीय बेटी सप्ताह भर पहले लापता हो गई थी।

JagranWed, 19 May 2021 01:51 AM (IST)

जेएनएन, बिठूर : थाना क्षेत्र के बगदौधी बांगर गांव निवासी एक मजदूर की 13 वर्षीय बेटी सप्ताह भर से लापता है, लेकिन पुलिस उसका पता नहीं लगा सकी है। पिता ने बताया कि बेटी मंधना क्षेत्र के एक निजी स्कूल में आठवीं कक्षा की छात्रा है। बुधवार शाम बेटी रहस्यमय परिस्थितियों में अचानक लापता हो गई। काफी तलाश करने के बावजूद उसका पता नहीं लगा। तब थाने में तहरीर दी। थाना प्रभारी ने बताया कि गुमशुदगी दर्ज करके किशोरी की तलाश की जा रही है। लक्ष्मण घाट पर मिला युवती का शव, बिठूर : परियर पुल के पास लक्ष्मण घाट पर मंगलवार सुबह 20 वर्षीय एक युवती का शव गंगा किनारे पड़ा मिला। गंगा सुरक्षा दल की सदस्य पुष्पा दीक्षित की सूचना पर बिठूर पुलिस ने पहुंचकर मामले की जांच शुरू की। क्षेत्र के तमाम गांवों में युवती की फोटो भेजने के साथ ही इंटरनेट मीडिया पर भी युवती की फोटो डालकर शिनाख्त कराने की कोशिश की गई, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। थाना प्रभारी अमित मिश्रा ने बताया कि युवती काले रंग की हाफ पैजामी व काले सफेद व नीले रंग का टाप पहने है। दोनों पैरों में चोट के निशान हैं। माना जा रहा है कि युवती की मौत गंगा नहाने के दौरान डूबने से हुई है। आक्सीजन कंसंट्रेटर के नाम पर हड़पे 69 हजार रुपये, कानपुर : कल्याणपुर में लखनपुर हाउसिग सोसायटी निवासी अनिल कुमार श्रीवास्तव को ऑनलाइन आर्डर देकर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मंगाना महंगा पड़ गया। मुंबई की एक फर्म ने 69 हजार रुपये लेने के बाद भी उन्हें ऑक्सीजन कंसंट्रेटर नहीं भेजा। परेशान होकर पीड़ित ने कल्याणपुर थाने में तहरीर दी है। अनिल के मुताबिक पिछले दिनों उनके माता-पिता कोविड के चलते अस्पताल में भर्ती थे। ऑक्सीजन सिलिडर न मिल पाने के कारण अनिल ने एक विज्ञापन देखकर आक्सीजन कंसंट्रेटर मंगाने के लिए मुंबई निवासी कुलजीत सिंह व जसवीर सिंह की सुरभि इंटरप्राइजेज नामक फर्म से संपर्क किया। दोनों आरोपितों ने भुगतान होने के तीसरे दिन आक्सीजन कंसंट्रेटर कानपुर डिलीवर कराने का भरोसा दिलाया। इस पर अनिल ने अपने बैंक खाते से फर्म के खाते में पेमेंट कर दिया। आरोप है कि रकम का भुगतान करने के बाद आरोपितों ने अपना फोन नंबर बंद कर लिया। थाना प्रभारी वीर सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। फांसी नहीं जहर से हुई थी विवाहिता की मौत, कानपुर : सचेंडी कस्बे में रविवार रात खुशबू की मौत फांसी लगाने से नहीं, बल्कि जहर से हुई थी। मंगलवार शाम पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद सच सामने आया। घटना वाली रात खुशबू के ससुरालवालों ने पुलिस से फांसी लगाने से मौत होने की बात कही थी। इधर, ब्लेड से अपना गला काटने वाले खुशबू के पति की हालत में सुधार है। पुलिस ने दहेज हत्या का मुकदमा लिखा है। मौके पर मिली फिनायल और सैनिटाइजर की खाली बोतलों की जांच की जा रही है।

सचेंडी निवासी धरम सिंह के बेटे योगेंद्र की शादी छह माह पूर्व घाटमपुर निवासी 23 वर्षीय खुशबू के साथ हुई थी। रविवार रात दंपती में विवाद हुआ था। इसके बाद खुशबू की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई, जबकि योगेंद्र ने अपने गले पर ब्लेड से वार करके आत्महत्या करने की कोशिश की थी। चीखपुकार सुन स्वजन पहुंचे तो देखा कि खुशबू का शव बेड पर पड़ा था और छत के कुंडे से दुपट्टे का फंदा बंधा था। वहीं योगेंद्र का गला कटा था और वह खून से लथपथ था। पुलिस को सूचना देकर योगेंद्र को हैलट में भर्ती कराया गया था। सुबह खुशबू के मायके वालों ने योगेंद्र व उसके परिवार के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा लिखाया था। थाना प्रभारी सतीश राठौर ने बताया, पोस्टमार्टम में जहर से महिला की मौत होने की आशंका जताते हुए विसरा सुरक्षित किया गया है। उसके पति की हालत स्थिर है और उसे स्वजन निजी अस्पताल ले गए हैं। पूछताछ में पति ने बताया था कि उसने फिनायल पीया था और गर्दन काटकर जान देने की कोशिश की थी। संभवत: इससे पूर्व महिला ने भी फिनायल या सैनिटाइजर पीया था। दहेज हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज करके जांच की जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.