मुझे देखकर ताले भी मुस्कुराते हैं, डायलॉग मारकर कानपुर में थाना से जुगनू चोर फरार, पांच पर केस दर्ज

चमनगंज थाना क्षेत्र में रहने वाला जावेद उर्फ जुगनू शातिर चोर है। पलक झपकते ही हाथ साफ कर देता है।
Publish Date:Mon, 21 Sep 2020 12:57 PM (IST) Author: Abhishek Agnihotri

कानपुर, जेएनएन। चमनगंज थाना पुलिस की मुस्तैदी की पोल उस समय खुल गई, जब एक गिरफ्तार कर लाया गया शातिर बदमाश मुंशी को धक्का देकर फरार हो गया। उसके खिलाफ चमनगंज, बेगमगंज, कर्नलगंज और बजरिया समेत कई थानों में लूट, चोरी व टप्पेबाजी समेत करीब 25 मुकदमे दर्ज हैं। उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की कई टीमें दबिश दे रही है।

कानपुर पुलिस के लिए सिरदर्द बने जुगनू चोर को कड़ी मशक्कत के बाद सोमवार शाम चमनगंज पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इस जुगनू चोर को हवालात में बंद ही किया गया था कि उसने अपना पुराना डायलॉग दोहराया और टॉयलेट जाने का बहाना बताकर हवालात से फरार हो गया। लापरवाही बरतने वाले पांच पुलिसकर्मियों पर केस दर्ज करते हुए तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया।

चमनगंज थाना क्षेत्र में रहने वाला जावेद उर्फ जुगनू शातिर चोर है। वह पलक झपकते ही हाथ साफ कर देता है। जुगनू चोर फिल्मी अंदाज में चोरी की वारदात को अंजाम देता है। जुगनू चोर पर शहर के विभिन्न थानों में 37 मुकदमे हैं। सोमवार को पकड़ में आया जुगनू चोर एक बार फिर से पुलिस को चकमा देने में कामयाब हो गया। वह लॉकअप से फरार हो गया। पुलिस जुगनू को मात्र तीन घंटे ही लॉकअप में रख सकी।

सीओ त्रिपुरारी पांडेय ने बताया कि चमनगंज थाना क्षेत्र का रहने वाला जावेद उर्फ जुगनू शातिर अपराधी है। इस पर करीब 37 मुकदमे हैं। जुगनू टॉयलेट जाने के बहाने गया और वहां से फरार हो गया। सीओ ने बताया कि थाने से शातिर चोर जावेद उर्फ जुगुनू के फरार होने के संबंध में लापरवाही पर पांच पुलिसकर्मियों पर धारा 221, 223, 224 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इस प्रकरण में तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है। 

चमनगंज थाना प्रभारी राज बहादुर सिंह ने बताया जावेद उर्फ जुगनू दो माह पूर्व जेल से छूट कर आया था और गैंग बनाकर वारदातों को अंजाम दे रहा था। रविवार शाम उसे गश्त के दौरान उसे पकड़कर थाने में दाखिल किया गया था। सोमवार सुबह करीब 8:30 बजे उसने मुंशी से टॉयलेट जाने के लिए कहा। इस पर मुंशी किशनलाल उसका हाथ पकड़कर टॉयलेट की ओर ले जा रहा था। इसी दौरान जावेद ने मुंशी को धक्का दिया और हाथ छुड़ाकर भाग निकला। मुंशी किशनलाल, नितेश कुमार और पहरे पर तैनात सिपाही राहुल ने उसका पीछा भी किया लेकिन हाथ नहीं आया।

किशनलाल उसे पकड़ने की कोशिश में घायल हो गए। मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई है और मुकदमा दर्ज किया गया है। जावेद की तलाश में दो टीमें संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.