पढ़िए, कानपुर में कोरोना संक्रमण से जुड़ी कुछ प्रमुख खबरें

कानपुर नगर में संक्रमण फैलने पर निगम ने कमर कसी है।

कानपुर शहर में कोरोना संक्रमण को लेकर महापौर ने बेहद गंभीरता दिखाई है। शेरों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद उन्होंने वन्यजीवों की व्यवस्थाओं को परखा और शहर में हुए सैनिटाइजेशन कार्य का सत्यापन भी किया ।

Abhishek AgnihotriSun, 09 May 2021 06:45 AM (IST)

दाम न बढऩे के बाद भी कुछ दुकानदार कर रहे मनमानी

कानपुर, जेएनएन। कोविड संक्रमण की दूसरी लहर के साथ ही शहर में दवाओं और संक्रमण की जांच से जुड़े उपकरणों की मांग भी बढ़ती जा रही है। शुरुआती दिनों में संक्रमण में लाभदायक दवाएं और उपकरण आसानी से निर्धारित मूल्यों पर मिल जा रहे थे। वे इन दिनों मनमाने दामों में काफी मशक्कत के बाद भी नहीं मिल रहे हैं। दवा व्यापारियों के मुताबिक कोविड के दौर में कई लोगों की कालाबाजारी के चलते दवाएं और उपकरण के मूल्यों में अंतर जरूर देखने को मिल रहा है।

हालांकि हालात पूरे शहर में एक से नहीं है। उर्सला, हैलट, बिरहाना रोड और गोविंद नगर स्थित दवा बाजार में दवाएं तो आसानी से मिल जा रही है। पल्स ऑक्सीमीटर के लिए जरूर तीमारदारों को भटकना पड़ रहा है। कानपुर केमिस्ट वेलफेयर के महामंत्री शिव कुमार गुप्ता के मुताबिक दवाओं और उपकरणों के मूल्य कंपनियों द्वारा बढ़ाए जाने की संभावना न के बराबर रहती है। कुछ कंपनियों के पल्स ऑक्सीमीटर दुकानदारों के पास स्टॉक में जरूर होंगे। जिनमें मूल्य नहीं लिखे होने के चलते मनमानी हो सकती है। प्रशासन द्वारा लगातार दवाओं की कालाबाजारी करने वालों पर सख्ती दिखाई जा रही है। शहर में जल्द ही पल्स ऑक्सीमीटर के साथ दवाओं की आपूर्ति सामान्य हो जाएगी।

कोरोना विजेताओं ने दान किया प्लाज्मा

कोविड महामारी से जंग जीतने वाले दो विजेताओं ने शनिवार को प्लाज्मा दान कर संक्रमितों को नया जीवन देने में अपना योगदान दिया। पुलिस लाइन के प्लाज्मा डोनेट सेंटर में सागर पोरवार ने प्लाज्मा दान किया। वहीं, नगर निगम के कंट्रोल रूम में रजिस्ट्रेशन कराने वाले सिद्धार्थ जैन ने ब्लड बैंक में जाकर प्लाज्मा दान किया। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के ट्रांसफ्यूजन विभाग की नोडल ऑफिसर डॉ. लुबना खान ने बताया कि प्लाज्मा और ब्लड देने में बहुत कम लोग आगे आ रहे हैं। इसके लिए कुछ एनजीओ और डोनर को जागरूक किया जा रहा है। पुलिस लाइन के प्लाज्मा सेंटर में शनिवार को २६ लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया। वहीं, नगर निगम के प्लाज्मा सेंटर में मनीष, साहिब सेठी, गुरमीत सिंह, साहिल आजमानी, वात्सल्य सिंह ने रजिस्ट्रेशन कराया है।

वन्यजीवों के लिए की गई व्यवस्थाओं को परखा

कोरोना महामारी के इस दौर में वन्यजीवों की स्थिति देखने के लिए महापौर शनिवार को चिडिय़ाघर पहुंचीं। यहां उन्होंने वन्यजीवों के रखरखाव, भोजन समेत अन्य तैयारियों व व्यवस्थाओं को परखा। प्रशासनिक अफसरों ने उन्हें बताया कि सभी वन्यजीव पूरी तरह स्वस्थ हैं। नियमित रूप से उनका स्वास्थ्य परीक्षण कर रिपोर्ट तैयार की जाती है। इसके अलावा स्वभाव व व्यवहार पर नजर रखी जा रही है। महापौर ने वन्यजीवों के लिए 25 किलोग्राम चने की दाल, काकून समेत अन्य खाद्य पदार्थ अफसरों व कर्मियों को सौंपा। अफसरों से यह भी कहा कि अगर किसी तरह की मदद चाहिए तो उन्हें मोबाइल पर सूचना दे सकते हैं। मौके पर मौजूद सहायक निदेशक एके सिंह ने उनसे कहा कि 200-400 मुर्गा का प्रबंध करा दीजिए। इससे करीब दो दिनों तक बिल्ली प्रजाति के वन्यजीवों के भोजन का प्रबंध हो जाएगा।

सैनिटाइजेशन कार्य का सत्यापन

महापौर ने शनिवार को शहर में चल रहे सैनिटाइजेशन कार्य का सत्यापन किया। इस दौरान उन्होंने स्वास्थ्य अफसरों को आदेश दिए कि सैनिटाइजेशन में मानक और गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। महापौर प्रमिला पांडेय बृजेंद्र स्वरूप पार्क बेनाझाबर से कमल चौराहा तक, हरजेंद्र नगर और बिरहाना रोड दवा मार्केट में चल रहे सैनिटाइजेशन के कार्य को देखा। इस दौरान रबिश प्रभारी रफजुल रहमान और जोनवार सेनेटरी इंस्पेक्टर भी मौजूद रहे। नगर निगम ने टैंकर, जेटिंग मशीन और स्प्रे मशीन लगाकर बाजार, धार्मिक स्थल, रेलवे व बस स्टेशन, भीड़भाड़ समेत 8583 स्थानों को सैनिटाइज कराया। इसके साथ ही 2532 सफाई कर्मचारी लगाकर नाली, सड़क व गलियों की सफाई करायी गयी। इस दौरान 210 मीट्रिक टन कूड़ा अतिरिक्त निकला।

24 घंटे में बन रहे मृत्यु प्रमाण पत्र

नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने का फार्म निश्शुल्क दे रहे है और 24 घंटे में इसे जनता को दे दिया जा रहा है। अभी तक 535 मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने के आवेदन आए हैं। इसमें 403 नगर निगम ने बनाकर दे दिए हैैं। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी किशोर आहूजा, बृजेश कुमार और अन्य कर्र्मचारी छुट्टी के दिन भी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने के लिए कार्यालय खोल रहे हैैं। इसके साथ ही पांच रुपये का लगने वाला फार्म भी निश्शुल्क दे रहे हैं। नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अजय संखवार ने बताया कि रोज पचास के करीब मृत्यु प्रमाण पत्र आ रहे हैं।

रोडवेज बसों को किया गया सैनिटाइज

रोडवेज बसों को नगर निगम की ओर से सैनिटाइज किया गया। झकरकटी बस अड्डे, रावतपुर बस अड्डे सहित अन्य डिपो में नगर आयुक्त के निर्देश पर नगर निगम कर्मियों ने रोडवेज बसों को सैनिटाइज किया। क्षेत्रीय प्रबंधक रोडवेज अनिल अग्रवाल ने बताया कि रोडवेज बसों को सैनिटाइज कराने के लिए नगर आयुक्त से अनुरोध किया गया था। उनके निर्देश पर बस अड्डों सहित डिपो व रोडवेज बसों को सैनिटाइज किया गया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.