उन्नाव में वाणिज्य कर को मिला सवा करोड़ का अघोषित स्क्रैप

उन्नाव में वाणिज्य कर को मिला सवा करोड़ का अघोषित स्क्रैप

उन्नाव में स्क्रैप फैक्ट्री पर मारे गए वाणिज्य कर विभाग के छापे में मिला माल।

JagranFri, 05 Mar 2021 01:48 AM (IST)

जेएनएन, कानपुर : उन्नाव में स्क्रैप फैक्ट्री पर मारे गए वाणिज्य कर विभाग के छापे में अधिकारियों को सवा करोड़ रुपये का अघोषित माल मिला। अधिकारियों ने फैक्ट्री में 80 लाख रुपये, जबकि बाहर खड़े 22 ट्रकों में 42 लाख का माल सीज किया। इन ट्रकों पर पकड़े गए माल के 16 लाख रुपये विभाग में जमा करा दिए गए हैं। वहीं विभाग अभी फैक्ट्री, गोदाम, आफिस में मिली इनवाइस, कच्चे पर्चों की जांच कर रहा है।

मंगलवार को वाणिज्य कर विभाग की टीम ने उन्नाव में लोहा फैक्ट्री पर छापा मारा था। इसका आफिस कानपुर में है और कानपुर देहात में भी इसका प्रतिष्ठान है। अधिकारियों को फैक्ट्री के बाहर ही 22 ट्रक भी खड़े मिले थे जिन पर स्क्रैप लदा था, लेकिन उनके कागजात नहीं थे। इस पर फैक्ट्री व ट्रक पर लदा सारा माल सीज कर दिया गया था। ट्रक और माल छुड़ाने के लिए 16 लाख रुपये जमा कर दिए गए। अधिकारियों के अनुसार 80 लाख के स्क्रैप पर भी 30 लाख रुपये से ऊपर का टैक्स व अर्थदंड बनेगा। हालांकि इसका अभी आकलन किया जा रहा है। एल केमिस्ट मामले में फिर मुकदमा दर्ज करने की मांग, कानपुर : एल केमिस्ट इंफ्रा रियलिटी फर्म के खिलाफ एक अधिवक्ता अजय कुमार ने चकेरी में भी मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। उनका कहना है कि पीड़ितों की संख्या ज्यादा है और वह कई स्थानों के रहने वाले हैं, लिहाजा संबंधित थानों में रिपोर्ट दर्ज होनी चाहिए। श्यामनगर निवासी पवन कुमार की तहरीर पर एल केमिस्ट फर्म के चेयरमैन व राज्यसभा के पूर्व सदस्य केडी सिंह समेत छह व्यक्तियों के खिलाफ सितंबर 2019 में कोतवाली में धोखाधड़ी व जालसाजी का मुकदमा दर्ज हुआ था। कुछ समय बाद विवेचना ईओडब्ल्यू को स्थानांतरित कर दी गई थी। पिछले दिनों अधिवक्ता ने ईमेल भेजकर पुलिस से चकेरी में मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। एसपी क्राइम डॉ. सुरेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि अधिवक्ता के ईमेल के आधार पर जांच कराई जा रही है। एडीजी के आदेश पर गैंगस्टर पर दर्ज हुआ मुकदमा, कानपुर : चकेरी थाने के गैंगस्टर ने मकान के नाम पर सर्राफ से 13.28 लाख रुपये हड़प लिए। इतना ही नहीं रकम वापस मांगने गई सर्राफ की पत्नी से आरोपित ने अपने चचेरे भाई के साथ मिलकर मारपीट की। घटना के बाद चकेरी पुलिस द्वारा मामला दर्ज नहीं करने पर पीड़ित ने एडीजी से शिकायत की। जिनके आदेश पर चकेरी में आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ। पनकी निवासी अर्जुन सिंह की मीरपुर कैंट में सर्राफ की दुकान है। उन्होंने बताया कि गैंगस्टर पवन राजपूत की पत्नी मीनाक्षी के नाम से स्वर्ण जंयती विहार देहली सुजानपुर में केडीए का प्लांट था। जिसके लिए उन्होंने 2017 में 13.28 लाख रुपये दिए थे। बावजूद इसके आरोपितों ने अभी तक प्लांट की रजिस्ट्री उनके नाम नहीं की। कई बार कहने पर आरोपित टालमटोल करते रहे। आरोप है कि 5 फरवरी को उनकी पत्नी माया आरोपित के घर कोयला नगर मकान की रजिस्ट्री करने या रुपये वापस करने की बात कहने गईं थीं। इस दौरान गैंगस्टर पवन राजपूत ने अपने चचेरे भाई पिटू के साथ मिलकर पत्नी से मारपीट की और जान से मारने की धमकी देकर भगा दिया। थाना प्रभारी दधिबल तिवारी ने बताया ने बताया कि आरोपित पवन पर हत्या, हत्या के प्रयास, गुंडा एक्ट, गैगस्टर जैसी धाराओं में करीब 12 मुकदमे दर्ज है जबकि पिटू पर हत्या, हत्या के प्रयास और मारपीट की धाराओं में करीब 6 मुकदमे दर्ज है। आरोपितों पर रिपोर्ट दर्जकर कार्रवाई की जा रही है। जेल से छूटे अपराधी ने किया पथराव, कल्याणपुर : जेल से छूटे गूबा गार्डन निवासी एक दबंग ने गुरुवार रात उधार दी गई रकम वापस मांगने पर दुकानदार से गालीगलौज, मारपीट की और लूटपाट व पथराव करके मौके से भाग निकला। आरोप है कि उसने मंगलवार रात भी पड़ोसी के घर पर हमला किया था। कश्यप नगर निवासी सुरेश कुमार सोनकर घर पर परचून की दुकान चलाते हैं। उन्होंने बताया कि बुधवार रात इलाके का दबंग कपिल त्रिपाठी दुकान पर आकर सिगरेट मांगने लगा। उन्होंने पुरानी उधारी चुकता न होने की बात कहकर सिगरेट देने से इन्कार कर दिया। आरोप है कि इसी के बाद आरोपी ने साथियों संग मिलकर घटना को अंजाम दिया। घटना पास में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है। कल्याणपुर इंस्पेक्टर जनार्दन प्रताप ने बताया कि आरोपित की तलाश में दबिश दी जा रही है। जल्द ही उसे पकड़ लिया जाएगा। फोर्स की कमी से पेट्रोल पंप सील करने पहुंचा दस्ता लौटा, कानपुर : यशोदा नगर में सील तोड़कर चल रहे पेट्रोल पंप को फिर से सील करने पहुंचा केडीए का दस्ता वहां मौजूद भीड़ देखकर लौट आया। केडीए के अवर अभियंता बीराम सील खोलकर यशोदानगर में चल रहे पेट्रोल पंप को सील करने पहुंचे थे। भीड़ ज्यादा होने और फोर्स कम होने के चलते दस्ता वापस लौट आया। दस्ते के प्रभारी सत शुक्ला ने बताया कि ज्यादा फोर्स लेकर पेट्रोल पंप सील किया जाएगा और पेट्रोल पंप का लाइसेंस निरस्त करने को लेकर जिलाधिकारी को पत्र लिखा जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.