चार संकाय और 35 विषयों के कोर्स बदले

चार संकाय और 35 विषयों के कोर्स बदले

छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय समेत प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों पर होगा लागू।

JagranFri, 23 Apr 2021 02:04 AM (IST)

जागरण संवाददाता, कानपुर : छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय समेत प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के लिए चार संकायों व स्नातक के 35 विषयों के कोर्स में बदलाव किया गया है। सत्र 2021-22 में लागू किए जाने के लिए न्यूनतम समान पाठ्यक्रम के तहत शासन ने बीकॉम, बीएड, बीबीए व बैचलर ऑफ लाइब्रेरी साइंस के 70 फीसद कोर्स में बदलाव कर दिया है। इसके अलावा हिदी, अंग्रेजी, गणित व भूगोल समेत 35 विषयों के कोर्स भी बदल दिए गए हैं। शासन ने फीडबैक के आधार पर इन विषयों के कोर्स में यह बड़ा बदलाव किया। इसके अलावा कोर्स में बदलाव को लेकर विश्वविद्यालय की भागीदारी 30 फीसद तय की गई है।

कोर्स में बदलाव के लिए शासन ने विषय विशेषज्ञों व शिक्षकों से सुझाव मांगे थे। इसके लिए 416 फीडबैक आए जिसमें से 25 फीसद फीडबैक को विषय विशेषज्ञों ने पाठ्यक्रम निर्धारण समिति में चर्चा करने के बाद विभिन्न विषयों के नए कोर्स डिजाइन किए हैं। कुलपति प्रो. विनय पाठक ने इसके संकेत पहले ही दे दिए थे। उन्होंने बताया था कि नए सत्र में बड़े पैमाने पर स्नातक, स्नातकोत्तर व प्रोफेशनल कोर्स में बदलाव करने के लिए जल्द ही बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक किए जाएंगे। इस मामले में नई शिक्षा नीति की स्टेयरिग कमेटी में सदस्य प्रो. अंशु यादव ने बताया कि जो कोर्स विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेजों में संचालित हैं, उनमें बदलाव करने के लिए उन्हें बोर्ड ऑफ स्टडीज में ले जाया जाएगा। शासन ने 15 मई तक विश्वविद्यालयों को बोर्ड ऑफ स्टडीज बुलाकर संशोधन करने के निर्देश दिए हैं।

-----------

स्नातक में चार रोजगारपक कोर्स

उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय त्रिवेदी ने बताया कि बदले गए कोर्स के तहत बीए, बीएससी व बीकॉम में सेमेस्टर प्रणाली लागू की जाएगी, जिससे छात्रों को कॉलेज से निकलने के साथ ही नौकरी व स्वरोजगार के अवसर मिलने लगेंगे। इसमें पहले दो वर्ष यानी चार सेमेस्टर में प्रत्येक सेमेस्टर के दौरान एक-एक रोजगारपरक कोर्स रखा जाएगा। इसके अलावा पहली बार 25 फीसद आंतरिक मूल्यांकन भी किया जाएगा जबकि 75 फीसद का दूसरा भाग लिखित परीक्षा का होगा जबकि छात्र तीन मुख्य विषय मेजर व एक अन्य विषय माइनर ले सकेंगे। तीन मुख्य विषयों में दो अपने संकाय के विषय लेने के साथ उन्हें एक दूसरे संकाय के विषय ले सकते हैं। रोजगारपरक कोर्स के लिए पॉलीटेक्निक, आइटीआइ व एमएसएमई के साथ समझौता किया जाएगा। यह समझौता विश्वविद्यालय करेंगे। कक्षाओं में पढ़ने के साथ छात्र 20 फीसद कोर्स ऑनलाइन भी कर सकेंगे।

--------

इन कोर्स में हुए बदलाव

रक्षा एवं संरचनात्मक अध्ययन, अर्थशास्त्र, शिक्षाशास्त्र, ललित कला, भूगोल, कृषि, वनस्पति विज्ञान, रसायन शास्त्र, कंप्यूटर विज्ञान, भूगर्भ शास्त्र, गणित, संस्कृत, हिदी, अंग्रेजी, उर्दू, खाद्य पोषण एवं स्वच्छता, प्राथमिक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, शारीरिक शक्षा एवं योग, मानव मूल्य एवं पर्यावरण अध्ययन, विश्लेषणात्मक योग्यता एवं डिजिटल अवेयरनेस, संचार कौशल एवं व्यक्तित्व विकास, इतिहास प्राचीन, इतिहास आधुनिक, गृह विज्ञान, विधि, दर्शनशास्त्र, शारीरिक शिक्षा, राजनीति शास्त्र, मनोविज्ञान, समाजशास्त्र, समाजिक कार्य, भौतिक विज्ञान, सांख्यिकी, जंतु विज्ञान

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.