Kanpur Accident Case: सचेंडी हादसे में सामने आया एक और सच, ठेकेदार लेता था हर माह किराया

सचेंडी हादसे में मारे गए मजदूरों को ठेकेदार परेशान कर रहा था। साइिकल से जाने पर रुपये लेता था जिसपर अपनी ही टेंपो लगाकर सबसे किराया वसूलता था। अब ग्रामीण फरार ठेकेदार पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

Abhishek AgnihotriSun, 13 Jun 2021 12:55 PM (IST)
कानपुर सचेंडी में हादसे के बाद ठेकेदार फरार है।

कानपुर, जेएनएन। सचेंडी हादसे में जान गंवाने वाले मजदूरों को ठेकेदार की मर्जी पर चलना पड़ता था। ठेकेदार ही मजदूरों के बैंक में खाते खुलवाता था और पासबुक अपने पास रखता था। इन खातों में कंपनी की ओर से आने वाली रकम में से अपना कमीशन व किराया काटकर वह बाकी रकम मजदूरों को देता था। यह आरोप ईश्वरीगंज व लाल्हेपुर के उन ग्रामीणों ने लगाया है, जिनके अपनों की जान हादसे में चली गई।

हादसे के बाद मृतकों के स्वजन ईश्वरीगंज गांव के लेबर ठेकेदार व उसके भाई पर आरोप लगा रहे हैं और कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। कुछ मृतकों के परिवारों ने ठेकेदार पर सैलरी देने में भी मनमानी का आरोप लगाया है। बलवीर के बेटे सचिन ने बताया कि पांच वर्ष से पिता नौकरी कर रहे हैं, लेकिन कभी पूरा वेतन नहीं मिला। हादसे में मृत ईश्वरीगंज के सूरज के मामा शमशेर ने बताया कि ठेकेदार मजदूरों का बैंक में खाता खुलवाता था और हर महीने कंपनी की ओर से आने वाले वेतन में से किराया व अन्य मदों में पैसे काट देता था। सूरज को ढाई सौ रुपये ही मिलते थे। हर महीने की 15 तारीख को ठेकेदार की ओर से पैसा दिया जाता था। हादसे के बाद से ठेकेदार फरार है। ऐसे में मृतकों का पैसा भी फंस गया है।

साइकिल से जाने पर भी देना पड़ता था किराया

सूरज के स्वजन ने बताया कि ठेकेदार की कंपनी में अच्छी पकड़ है। उसका एक भाई वहीं पर सुपरवाइजर है। उसकी वजह से वह लेबर ठेकेदार बन गया। साथ ही अपने पिता के नाम से टेंपो खरीदकर मजदूरों को कंपनी तक लाने के लिए तीसरे भाई को लगा दिया। हर मजदूर से प्रतिमाह 1500 रुपये किराया लिया जाता था। अगर कोई मजदूर साइकिल से जाना चाहे तो भी उसे 500 रुपये देने पड़ते थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.