केवी में 90 फीसद छात्र कर रहे आनलाइन पढ़ाई, शिक्षकों के लिए 50 फीसद क्षमता का रोस्टर लागू

50 फीसद क्षमता का रोस्टर लागू है। ऐेसे में शिक्षक कभी घर तो कभी स्कूल पहुंचकर छात्रों को वर्चुअली तौर पर पढ़ाई करते हैं। केंद्रीय विद्यालय रक्षा विहार में कला की शिक्षक ऋचा ने बताया कि 50 फीसद क्षमता के चलते आसानी से बच्चों को पढ़ाया जा सकता है।

Akash DwivediThu, 15 Jul 2021 12:34 PM (IST)
मोबाइल या कम्प्यूटर के सामने पढ़कर परेशान हो गए

कानपुर, जेएनएन। केंद्रीय विद्यालयों में अब 90 फीसद छात्र आनलाइन पढ़ाई करने लगे हैं। 19 जून के बाद से ही लगभग सभी कक्षाओं के लिए आनलाइन पढ़ाई शुरू हो गई थी। 49 दिनों की छुट्टियों के बाद करीब एक हफ्ता तो छात्र-छात्राओं की उपस्थिति कम रही। हालांकि, शिक्षकों का कहना है जुलाई के पहले हफ्ते से छात्र-छात्राओं ने आनलाइन पढ़ाई फुलफ्लैश तरीके से करना शुरू कर दी। मौजूदा समय में हर कक्षा में औसतन 90 फीसद छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। इससे काफी दिनों से घर रहकर ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे, बच्चों को राहत मिलेगी। जो काफी समय से मोबाइल या कम्प्यूटर के सामने पढ़कर परेशान हो गए थे।

शिक्षकों के लिए 50 फीसद क्षमता का रोस्टर लागू: जिस तरह छात्र आनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं, ठीक वैसे ही शिक्षक स्कूल तो जा रहे हैं। मगर, कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए उनके लिए भी 50 फीसद क्षमता का रोस्टर लागू है। ऐेसे में शिक्षक कभी घर तो कभी स्कूल पहुंचकर छात्रों को वर्चुअली तौर पर पढ़ाई करते हैं। केंद्रीय विद्यालय रक्षा विहार में कला की शिक्षक ऋचा ने बताया कि 50 फीसद क्षमता के चलते आसानी से बच्चों को पढ़ाया जा सकता है।

100 फीसद पाठ्यक्रम पूरा कराने पर जोर : केंद्रीय विद्यालय आइआइटी में प्रधानाचार्य आरएन वडालकर ने बताया कि स्कूलों में अभी पढ़ाई भले ही आनलाइन हो रही हो, पर शिक्षकों का पूरा जोर 100 फीसद पाठ्यक्रम को पूरा कराने पर है। वहीं, अगर स्कूल खोलने को लेकर सरकार द्वारा निर्दे्श जारी किए जाते हैं तो समय से स्कूल खुलेंगे और आफलाइन व आनलाइन दोनों ही प्रारूपों में पढ़ाई होगी। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.