घटना के बाद पिता के फ्लैट में जाकर छिपा, सर्विलांस से पकड़ा गया

कुत्ते के साथ सोफे पर आराम फरमा रहा था

JagranWed, 22 Sep 2021 01:39 AM (IST)
घटना के बाद पिता के फ्लैट में जाकर छिपा, सर्विलांस से पकड़ा गया

जागरण संवाददाता, कानपुर : कहते हैं चोर की दाढ़ी में तिनका। गुलमोहर अपार्टमेंट में संदेह के घेरे में आए डेयरी कारोबारी के आरोपित बेटे की हरकतों से कुछ यही नजर आ रहा है। घटना के बाद वह पिता के फ्लैट में जाकर छिप गया और पिता ने भी पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की। उसने कहा कि बेटा कहीं बाहर है। हालांकि पुलिस ने जब सर्विलांस का सहारा लिया तो वह पकड़ा गया। वहीं दूसरी ओर इस घटना से जुड़े तमाम सवाल संदेह पैदा कर रहे हैं और उनका इशारा हत्या की ओर है।

प्रतीक फ्लैट में अकेला रहता था। मनमुटाव होने के कारण उसका अपनी पत्नी से तलाक हो चुका है। युवती भी तीन दिन पहले नौकरी पर आई थी, इसलिए कर्मचारी और मालिक के बीच किसी तरह के विवाद की गुंजाइश भी न के बराबर है। बड़ा सवाल यह है कि आखिर ऐसा क्या हुआ, जिससे युवती नीचे गिरी। एक बार मान भी लें कि उसने आत्महत्या की तो इसके पीछे कोई कारण तो होगा ही जबकि स्वजनों का कहना है कि नौकरी मिलने से बेटी बहुत खुश थी। अगर वह नीचे भी कूदी तो जाहिर है कि कुछ ऐसा होने वाला था, जिसे वह सहन नहीं कर पा रही होगी। हालांकि जिस तरह से फ्लैट के अंदर सामान बिखरा हुआ मिला है, उससे भी अंदर खींचतान या झड़प होने की आशंका जताई जा रही है। हत्या का शक इसलिए भी गहरा हो रहा है, क्योंकि घटना के बाद आरोपित अपने फ्लैट से फरार हो गया और उसने पुलिस को कोई सूचना नहीं दी। पुलिस जब मौके पर पहुंची और प्रतीक के बारे में पूछताछ की तो पिता शीतल कुमार वैश्य ने पुलिस को यही बताया कि प्रतीक घर पर नहीं है। हालांकि इसी बीच पुलिस ने सर्विलांस की मदद ली तो प्रतीक के मोबाइल की लोकेशन अपार्टमेंट में ही मिली। बाद में पुलिस 11वीं मंजिल पर पिता का फ्लैट 1104 खुलवाया तो प्रतीक अपने पालतू कुत्ते के साथ सोफे पर बैठा था। जिस समय पुलिस ने उसे पकड़ा उसके चेहरे की हवाइयां उड़ रही थीं, लेकिन चेहरे पर हंसी लाकर वह उसे छिपाने की कोशिश कर रहा था।

-----------------

डेयरी कारोबार में बड़ा नाम है पिता का

मार्डन डेयरी के मालिक शीतल कुमार वैश्य का डेयरी कारोबार में शहर में बड़ा नाम हैं। शीतल कुमार कभी पराग में डेयरी विशेषज्ञ हुआ करते थे। बाद उन्होंने अपना अलग कारोबार खड़ा कर लिया। दूध से जुड़े तमाम ब्रांड की ओपनिग में इनका बड़ा सहयोग रहा है। पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए ही प्रतीक ने भी डेयरी कंसल्टेंसी का काम शुरू किया था। जहां युवती को आठ हजार रुपये मासिक वेतन पर सेकेट्ररी और कंप्यूटर आपरेटर के काम पर रखा था।

---------------

किचन में मिला शराब का जखीरा

प्रतीक के फ्लैट के हालात उसके अय्याश होने की गवाही दे रहे थे। पुलिस जब फ्लैट के अंदर घुसी तो पूरे घर में सिगरेट की गंध भरी हुई थी। सिगरेट के कई पैकेट मेज पर पड़े थे। किचन में शराब व बियर की पांच पेटियां पुलिस को मिलीं, जो साबित करती हैं कि उसका चाल चलन ठीक नहीं था। आसपास के लोगों ने यह भी बताया कि प्रतीक की इन्हीं आदतों के कारण ही उसका पत्नी से विवाद होता था और आखिरकार तलाक हो गया।

-------------

अपार्टमेंट में घुसते हुए सीसीटीवी कैमरे में कैद

पुलिस ने गुलमोहर अपार्टमेंट के सीसीटीवी कैमरे खंगाले हैं। मेन गेट और लिफ्ट के पास लगे सीसीटीवी कैमरों में युवती प्रतीक के साथ आती हुई दिखाई दी है। इसके बाद किसी कैमरे में दोनों नहीं थे। हालांकि अपार्टमेंट में जिस स्थान पर युवती का शव पड़ा था, वहां से कुछ दूरी पर भी एक कैमरा लगा है, लेकिन उसकी दिशा दूसरी ओर थी। फिर भी पुलिस उस कैमरे की फुटेज निकलवा रही है।

--------------

पिता की मौत के बाद परिवार का सहारा बन रही थी

युवती के पिता की पांच वर्ष पूर्व मौत हुई थी। पिता किसान थे और गांव में ही रहकर खेती बाड़ी करते थे। लेकिन पिता की मौत के बाद युवती व उसका परिवार शहर आ गया था। यहां एक रिश्तेदार के कहने पर गीतानगर में किराये पर रहने लगा। मां ने बताया कि युवती अभी भी अरौल के एक स्कूल से 12वीं की पढ़ाई कर रही थी। मां एक फैक्ट्री में नौकरी करने लगीं। वह मां की परिवार चलाने में मदद करना चाहती थी। बड़ी बहन ने बताया कि उसे काम करने से रोका था, तो बोली कि दीदी तुम कंपटीशन की तैयारी करो, मैं कहीं नौकरी कर लेती हूं।

---

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.