आइपीएस भाई की मौत के जिम्मेदारों को किसी भी सूरत में नहीं छोड़ेंगे

कानपुर (जागरण संवाददाता)। आइपीएस सुरेंद्र दास के आत्महत्या मामले में पुलिस ने सुसाइड नोट से लेकर सरकारी आवास पर मिले साक्ष्यों को सुरक्षित कर लिया है। पुलिस परिजन की तहरीर मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की बात कह रही है। उनके भाई नरेंद्र के मुताबिक अंतिम संस्कार के बाद होने वाले संस्कार पूरे होते ही मां इंदू व परिजन से बातचीत कर आगे का निर्णय लिया जाएगा। भाई की मौत के जिम्मेदारों को किसी भी सूरत में नहीं छोड़ेंगे, चाहे वह कोई भी हो।

यह भी पढ़ें : आइपीएस अधिकारी सुरेंद्र दास की इलाज के दौरान मौत, पांच दिन पहले की थी खुदकुशी की कोशिश

भाई नरेंद्र ने बताया कि इस घटना से अभी मां इंदू उबर नहीं पाई है। आज दूध-भात के चलते उनसे कोई बात नहीं हुई। अभी तक की परिस्थितियों व बयानबाजी से साफ है कि सुरेंद्र ने पारिवारिक कलह के चलते ही कदम उठाया। आगे क्या करना है जल्द निर्णय लिया जाएगा वहीं पत्नी डॉ. रवीना की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है। उनके पिता डॉ. रावेंद्र सिंह ने सोमवार को सभी आरोपों को निराधार बताते हुए दोनों के बीच मधुर संबंध होने की बात कही थी।

यह भी पढ़ें : पत्नी ने जन्माष्टमी पर खाया था नॉनवेज बर्गर, IPS सुरेंद्र दास से हुआ झगड़ा

दूसरी तरफ पुलिस आइपीएस सुरेंद्र दास के सुसाइड से जुड़े सारे तथ्यों को एकत्र करने के साथ उनसे जुड़े बयानों को भी जांच के दायरे में लाने की तैयारी कर रही है। एसपी क्राइम राजेश कुमार का कहना है कि आइपीएस सुरेंद्र दास के सुसाइड मामले में पुलिस ने घटनास्थल से सामान व कुछ साक्ष्य एकत्र किए हैं। परिजन की तरफ से तहरीर मिलने के बाद ही जांच प्रक्रिया पर विचार किया जाएगा। अभी तक कोई तहरीर नहीं मिली है।

बेटी सदमे में, नहीं लेंगे कोई सरकारी मदद

आइपीएस के ससुर डॉ. रावेंद्र सिंह ने कह कि मेरी बेटी पति की मौत से सदमे में है, उसकी हालत शब्दों में बयां नहीं की जा सकती, ऊपर से बेतुके सवाल-जवाब पूरे परिवार को मानसिक प्रताडऩा दे रहे हैं। सुरेंद्र के सुसाइड नोट से लेकर उनके किसी घनिष्ठ ने कभी दोनों के बीच के संबंधों पर अंगुली नहीं उठाई। सर्वोदय नगर स्थित ईएसआइ हास्पिटल कैंपस निवासी डॉ. सिंह आइपीएस सुरेंद्र की मौत के बाद से बेटी रवीना के साथ लखनऊ में रिश्तेदार के घर पर हैं।

यह भी पढ़ें : क्या था वीडियो क्लिप में जिसकी वजह से एसपी पूर्वी ने खाया था जहर

उन्होंने फोन पर बताया कि किसी भी महिला के लिए पति की मौत दुनिया का सबसे बड़ा कष्ट होता है। जैसी मेरी बेटी पर बीत रही है, किसी के साथ ऐसा न हो। श्री सिंह ने साथ में यह भी बताया कि परिवार बेटी के लिए कोई भी सरकारी मदद, नौकरी या सुविधा लेने का न ही इच्छुक है और न ही लेगा। हम लोग सिर्फ बेटी को इस सदमे से और पुरानी यादों से निकालने व हादसे की पीड़ा से दूर ले जाने के लिए माहौल बदलने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :नहीं दर्ज हुई एसपी सुरेंद्र दास की मौत की एफआइआर, कोर्ट में दी अर्जी

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.