श्रद्धा की डुबकी लगा पुण्य की कमाई

श्रद्धा की डुबकी लगा पुण्य की कमाई

जागरण संवाददाता कन्नौज आस्था देखते बन रही थी। उमंग हिलोरे ले रही थी। समर्पण सीमा से पा

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 11:26 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, कन्नौज: आस्था देखते बन रही थी। उमंग हिलोरे ले रही थी। समर्पण सीमा से पार तो समर्पण बल्लियों उछल रहा था। समय गवाह था, गंगा तट पर निष्ठा की डुबकी बेमिसाल थी। स्नानार्थियों का गंगा मइया के प्रति प्रेम तो अप्रतिम था। निर्मल व अविरल प्रवाहित गंगा मइया अपने भक्तों की आस्था पर बलिहारी हो रही थीं। अवसर था- कार्तिक पुर्णिमा। पतित पावनी में हजारों स्नानार्थियों ने गंगा मइया के उदघोष के साथ डुबकियां लगाई, जन भाव जीवंत हो उठा। कह सकते हैं, गंगा में श्रद्धा भाव से डुबकी लगा भक्तों ने पूजा-अर्चना की,खूब पुण्य लाभ कमाया।

सोमवार को कार्तिक पूर्णिमा पर पावन महादेवी घाट पर ब्रह्म मुहूर्त से ही स्नान शुरू हो गया। आसपास के जनपद हरदोई, कानपुर देहात, औरैया, उरई, झांसी से स्नानार्थी रात में ही आ गए थे। सुबह से स्नान शुरू हो गया। सूर्यदेव के उदय होने से पहले हजारों लोग स्नान कर चुके थे। भगवान भास्कर के उदित होते ही भक्तों ने सूर्यदेव को अ‌र्घ्य देकर प्रणाम किया और पवित्र गंगाजल से आचमन किया। हालांकि कोरोना संक्रमण होने के कारण महादेवी घाट पर इस बार भीड़ कम नजर आई, फिर भी दिन भर स्नान का क्रम जारी रहा।

-----------

एक किलोमीटर पहले रोक दिए वाहन

महादेवी घाट पर भीड़ और जाम को रोकने के लिए पुलिस ने एक किमी पहले मियागंज गांव के पास ही वाहन रोक दिए थे। गैर जनपदों से आये ट्रैक्टर और छोटे वाहनों को खेतों में खड़ा कराया गया, जबकि बाइक को पुल तक जाने दिया गया। हालांकि घाट तक बाइक को नहीं जाने दिया गया। सदर एसडीएम गौरव शुक्ल सुबह ही महादेवी घाट पर पंहुच गए थे। उन्होंने व्यवस्थाओं का जायजा लिया और पुलिसकर्मियों को सतर्क रहने के निर्देश दिए।

------------

पीएसी के जवानों ने की गश्त

महादेवी घाट पर पीएसी की गोताखोर यूनिट मोटरबोट के साथ गंगा के पानी मे गश्त करती रही। वहीं, जिला प्रशासन की तरफ से स्थानीय गोताखोर भी घाट पर मौजूद रहे। गहराई अधिक होने के कारण घाट पर वेरीकेडिग की गई थी। श्रद्धालुओं ने वेरीकेडिग के पास ही स्नान किया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.