जिले में नहीं लगेगा रात का क‌र्फ्यू, बरतें संयम

जिले में नहीं लगेगा रात का क‌र्फ्यू, बरतें संयम

जागरण संवाददाता कन्नौज जिले में कोरोना संक्रमण दर कम है। इसलिए इत्र नगरी में रात को कफ्य

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 11:47 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, कन्नौज: जिले में कोरोना संक्रमण दर कम है। इसलिए इत्र नगरी में रात को क‌र्फ्यू नहीं लगेगा। जिलाधिकारी ने खुद सावधानी बरतने की सलाह दी है।

बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए मुख्य सचिव ने जिलाधिकारी पर रात क‌र्फ्यू पर विचार कर लगाने के निर्देश दिए हैं। इस पर जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्रा ने बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण की दर अन्य जिलों की अपेक्षा कम है। वहीं, रिकवरी रेट अच्छा है। इसलिए क‌र्फ्यू की जरूरत जिले में नहीं है। सुधार भी तेजी से हो रहा है। ऐसे में लोगों को खुद सावधानी बतरने की जरूरत है। इससे और हालात सामान्य होंगे। मुंह में मास्क लगाएं और शारीरिक दूरी का पालन करें। खासकर बच्चे, बुजुर्ग व गर्भवती महिला घर से न निकलें। रात को भी सावधानी बरतें। चुनाव बाद स्वास्थ्य विभाग के साथ इस संबंध में बैठक करेंगे और आगे यदि जरूरत पड़ी तो क‌र्फ्यू पर विचार करेंगे। जिले में संक्रमण की 1.8 फीसद है, जो कि अन्य जिलों की अपेक्षा कम है। वहीं, रिकवरी रेट 95.6 फीसद है।

----------------------

डीएम के फोन पर निकाह रुकवाने दौड़ी थी पुलिस

जागरण संवाददाता, कन्नौज: नाबालिग का निकाह रुकवाने पहुंची टीम को कोतवाली में महिला पुलिस कर्मी नहीं मिली थी। इससे टीम को परेशानी का सामना करना पड़ा था। डीएम को मामले की जानकारी हुई तो उनके फोन पर मुख्यालय से पुलिस टीम भेजकर निकाह रुकवाया गया था। दूसरे दिन काउंसिलिग कर किशोरी माता-पिता को सौंप दी गई।

गुरसहायगंज में रविवार को नाबालिग लड़की का निकाह कराया जा रहा था। किसी परचित या रिश्तेदार ने 181 महिला हेल्पलाइन पर इसकी जानकारी दी थी। इस पर प्रोबेशन अधिकारी प्रेमेंद्र कुमार ने वन स्टॉप सेंटर से टीम भेजी थी। लेकिन कोतवाली में महिला पुलिस न होने की बात कही गई। इससे टीम घंटों खाली हाथ रही। इधर, डीएम राकेश कुमार मिश्रा को मामले की जानकारी हुई तो प्रोबेशन अधिकारी को फोन कर कार्रवाई के निर्देश दिए थे। जिसके बाद विनोद दीक्षित अस्पताल परिसर में संचालित वन स्टॉप सेंटर से महिला पुलिस कर्मी टीम के साथ भेजी गई। लड़की की हाईस्कूल मार्कशीट के अनुसार उम्र 17 वर्ष निकली थी। नाबालिग मानते हुए उसे रात में वन स्टॉप सेंटर लाया गया था। प्रेमेंद्र ने बताया कि सोमवार को लड़की को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश कर माता-पिता को सौंप दिया गया। हिदायत दी गई की 18 वर्ष उम्र होने पर ही विवाह करना होगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.