top menutop menutop menu

पूर्व सांसद के पुत्र समेत 11 गैंगस्टरों की 4.50 करोड़ की संपत्ति जब्त

जागरण संवाददाता, जौनपुर : योगी राज में समाज विरोधी गतिविधियों में लिप्त गैंगस्टरों (गिरोह बंद अधिनियम) पर जिला प्रशासन का हंटर चलने लगा है। जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने बुधवार को चर्चित पूर्व सांसद उमाकांत यादव के पुत्र दिनेशकांत यादव समेत 11 गैंगस्टरों की साढ़े चार करोड़ रुपये मूल्य की चल व अचल संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है। पुलिस अधीक्षक की रिपोर्ट पर यह कार्रवाई की गई है।

जिलाधिकारी ने उत्तर प्रदेश गिरोह बंद व समाज विरोधी क्रियाकलाप निवारण अधिनियम के तहत यह आदेश दिया है। जिनकी चल-अचल संपत्ति कुर्क की जाएगी, उनमें दिनेश कांत निवासी शाहगंज सबसे चर्चित नाम है। इनके अलावा पंकज सिंह व उसके पुत्र प्रतीक सिंह निवासी गांव बेलहटा, धनंजय यादव निवासी चुड़ावनपुर थाना बक्शा, रीता जायसवाल गांव तरती थाना नेवढि़या, नौशाद निवासी पोटरिया थाना सरायख्वाजा, नियाज निवासी धमौर थाना खुटहन, सुरेश सोनकर निवासी उमरपुर शहर कोतवाली, मनीष कुमार यादव व अंकित उपाध्याय निवासी ग्राम बलुआ थाना बदलापुर और सूरज निवासी बनकट चेतरिया थाना पंवारा हैं। संबंधित थानों की रिपोर्ट के अनुसार आरोपितों ने यह चल-अचल संपत्ति अवैध शराब की तस्करी, लूट, गोकशी व जुआ जैसी समाज विरोधी गतिविधियों से अर्जित की है। जब्त की जाने वाली अल-अचल संपत्ति में आरोपितों के चार पहिया व दो पहिया वाहन, बैंक खातों में जमा रुपये, जमीन है। दो बार चुनाव लड़ चुका है दिनेश कांत

आजमगढ़ जिले के फूलपुर थाना क्षेत्र के सरांवा गांव के मूल निवासी दिनेश कांत यादव दो बार जौनपुर में विधानसभा का चुनाव लड़ चुका है। पहली बार सन 2007 में खुटहन से बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर और दूसरी बार 2017 में शाहगंज विधानसभा क्षेत्र से राष्ट्रीय लोकदल के प्रत्याशी के रूप में राजनीतिक भाग्य आजमाया था। दोनों बार उसे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार शैलेंद्र यादव ललई से पराजय का सामना करना पड़ा था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.