नालों की नहीं हो सकी सफाई, बारिश में इस बार भी बदतर हो जाएगी मुहल्लों की स्थिति

कामन इंट्रो.. बारिश के दिनों में बड़े नालों के साथ ही छोटी नालियों के जाम होने से कई

JagranSat, 12 Jun 2021 05:11 PM (IST)
नालों की नहीं हो सकी सफाई, बारिश में इस बार भी बदतर हो जाएगी मुहल्लों की स्थिति

कामन इंट्रो..

बारिश के दिनों में बड़े नालों के साथ ही छोटी नालियों के जाम होने से कई मोहल्लों में जलभराव की समस्या उत्पन्न हो जाती है। यह स्थिति हर बारिश में बनती है। हर बार बरसात से पूर्व नालों की सफाई का दावा किया जाता है, लेकिन हकीकत कुछ और ही होती है। ऐसा इस बार भी हो रहा है। नगर पालिका परिषद जौनपुर की ओर से 40 बड़े नालों की सफाई का दावा किया जा रहा है, लेकिन स्थिति कुछ और ही है। अधिकांश नाले जाम हैं। नगर में 21 हजार मीटर भूभाग में नाले फैले हैं। नगरपालिका प्रशासन का कहना है कि अप्रैल व मई माह में ही नालों की सफाई की जा चुकी है, लेकिन अभी चक्रवाती तूफान में हुई बारिश में ही स्थिति बदतर हो गई थी। आगे मानसून की बारिश में स्थिति क्या होगी इसे स्वत: समझा जा सकता है। आबादी बढ़ी मगर नहीं बढ़ी नालों की संख्या

नगर पालिका क्षेत्र जौनपुर की आबादी लगभग तीन लाख से अधिक है। नगर क्षेत्र का दायरा 49 वर्ग किमी है और यहां लगभग 38 हजार मकान बने हैं। 50 वर्ष पहले जहां आबादी 80 हजार के करीब थी। उस समय नगर में मकानों की संख्या 10 हजार रही, लेकिन ड्रेनेज सिस्टम अभी भी वही हैं जो पहले रहे। अलबत्ता उस समय बारिश के पानी के बहाव के लिए खाली रहने वाले क्षेत्र भी अब मकानों से भर गए हैं। हालांकि इन दिनों अमृत योजना के तहत शिविर लाइन बिछाने का काम हो रहा है, लेकिन अभी वह भी अधूरा है। ऐसे में बरसात के दिनों में जल निकासी चुनौती साबित होगी। गली-मुहल्लों के छोटे नाले-नालियों के भी चोक होने से वहां की भी स्थिति भी बदतर होने की बात कही जा रही है। इन क्षेत्रों में हैं बड़े नाले

अहियापुर, खासनपुर, ईशापुर, गंगापट्टी, कालीकुत्ती, मीरमस्त, मखदूम शाह अढ़न, रुहट्टा, पालीटेक्निक चौराहा, नईगंज, कचहरी रोड, खराका तिराहा, गांधी तिराहा क्षेत्र बड़े नाले हैं। जिसमें अधिकांश नालों की अभी सफाई नहीं हो सकी है। एक नजर..

नगरपालिका क्षेत्र की आबादी: लगभग 300000।

कुल वार्डों की संख्या: 39

नगर क्षेत्र का दायरा : 49 वर्ग किमी

नगर में आवासों की संख्या : लगभग 38 हजार

ड्रेनेज की संख्या : 14

बड़े नालों की संख्या : 50

स्थायी सफाई कर्मी : 172

संविदा सफाई कर्मी : 74

आउटसोर्सिंग कर्मी : 38

नालों का क्षेत्रफल: 21 हजार मीटर

...........................

बोले जिम्मेदार..

अधिकतर बड़े नालों की सफाई हो चुकी है। 4-5 ही बाकी हैं। बारिश में जलभराव वहीं होता है जहां पानी का फ्लो इतना अधिक होता है कि उसकी निकासी में एक-दो घंटे लग जाते हैं। पानी का भराव वहीं पर होता है, जहां ठोस अपशिष्ट जैसे पालिथीन, प्लास्टिक बोतल का कचरा नाले में फंसता है।

-संतोष मिश्र, अधिशासी अधिकारी, नगर पालिका जौनपुर।

.......................

बारिश से पहले सभी नालों की सफाई करा ली गई है। जिन जगहों पर नाली जाम होने व जल भराव की समस्या आएगी, वहां दोबारा सफाई कराई जाएगी।

-माया टंडन, अध्यक्ष, नगर पालिका जौनपुर।

-------------------------------------

बोले नागरिक..

बारिश से पहले नालों की सफाई अगर ठीक से करा दी जाए तो जलभराव की समस्या ही न हो। बरसात करीब है, लेकिन अभी तक मोहल्ले के बड़े नाले की सफाई ही नहीं कराई गई। इस बार भी जलभराव होना है।

-शकील मंसूरी, मोहल्ला मीरमस्त।

-----------------------------------

किसी भी बारिश के पहले नाले की सफाई नहीं होती। अगर कभी-कभार होती भी है तो सफाई कर्मी आकर खानापूर्ति कर चले जाते हैं। कचरा बाहर ही छोड़ देते हैं जो पुन: उसी में चला जाता है। जलजमाव की समस्या झेलना तो हम लोगों की मजबूरी है।

-अरशद कुरैशी, मखदूम शाह अढ़न।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.