पहले आओ-पहले पाओ के तहत पूर्वांचल विश्वविद्यालय में होगा दाखिला

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय परिसर में चलने वाले पाठ्यक्रम के लिए विगत सप्ताह प्रवेश परीक्षा हुई थी जिसका परिणाम शनिवार की देर शाम घोषित कर दिया गया है। जिन विषयों में प्रवेश परीक्षा नहीं हुई उस विषय में मेरिट के आधार पर प्रवेश लिया जाएगा। वहीं रिक्त पदों पर पहले आओ पहले पाओ के तहत प्रवेश लिया जाएगा।

JagranSun, 26 Sep 2021 11:29 PM (IST)
पहले आओ-पहले पाओ के तहत पूर्वांचल विश्वविद्यालय में होगा दाखिला

जागरण संवाददाता, मल्हनी (जौनपुर) : वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय परिसर में चलने वाले पाठ्यक्रम के लिए विगत सप्ताह प्रवेश परीक्षा हुई थी, जिसका परिणाम शनिवार की देर शाम घोषित कर दिया गया है। जिन विषयों में प्रवेश परीक्षा नहीं हुई, उस विषय में मेरिट के आधार पर प्रवेश लिया जाएगा। वहीं रिक्त पदों पर पहले आओ, पहले पाओ के तहत प्रवेश लिया जाएगा।

पूर्वांचल विश्वविद्यालय में संचालित डी फार्मा, बीसीए, बी काम (आनर्स), एमबीए और एमबीए एग्री बिजनेस में दाखिला के लिए प्रवेश परीक्षा हुई थी, जिसका परिणाम घोषित कर दिया गया है। काउंसलिग संबंधित जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। जिन विषयों की प्रवेश परीक्षा नहीं हुई है। मेरिट के आधार पर सीधा दाखिला होना है। उनकी प्रक्रिया 30 सितंबर तक पूरी करने के लिए कुलसचिव महेंद्र कुमार ने पत्र जारी किया है।

उन्होंने जारी पत्र में कहा है कि 30 सितंबर के बाद यदि सीटें खाली रह जाएंगी तो ऐसे अभ्यर्थियों के लिए प्रवेश पहले आओ पहले पाओ के तहत लिया जाएगा। यह प्रक्रिया विश्वविद्यालय प्रशासन एक से 10 अक्टूबर के मध्य संपन्न करनी है। इसके लिए भी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर ही आवेदन लिया जाएगा। संबंधित छात्र विभागाध्यक्ष से संपर्क कर लें ताकि उन्हें किसी तरह की कोई दिक्कत न हो। परीक्षा व मूल्यांकन में पूरी तरह से बरती गई पारदर्शिता

जागरण संवाददाता, मल्हनी (जौनपुर) : वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय अनुत्तीर्ण छात्रों के लिए एक मौका देने जा रहा है। जो विद्यार्थी श्रेणी सुधार करना चाहते हैं अथवा बैक पेपर देना चाहते हैं, उन्हें यह मौका सभी प्रश्न पत्रों के लिए दिया जाएगा। कुलपति प्रो. निर्मला एस मौर्य ने कहा कि सभी विद्यार्थी समय पर अपनी परीक्षाओं का फार्म भरते हुए अच्छे अंकों से उत्तीर्ण हों और वह किसी भी प्रकार के भ्रम की स्थिति में न रहें।

उन्होंने कहा कि छात्रों का एक ही उद्देश्य होना चाहिए कि वह समय के अनुसार परीक्षाएं दें और जीवन में आगे बढ़ने का एक लक्ष्य निर्धारित करें। लगातार यह देखने में आ रहा है कि अनेकों बार परीक्षा की वेबसाइट खोलने के बावजूद विद्यार्थी समय पर परीक्षाफार्म नहीं भरते हैं और लगातार महाविद्यालयों की शह पर विश्वविद्यालय के चक्कर लगाते रहते हैं, जबकि उनकी समस्याओं का निदान महाविद्यालयों का उत्तरदायित्व है।

अधीनस्थों संग बैठक छात्र हितों को ध्यान में रखकर किया गया। कुलपति ने कहा कि कुछ विद्यार्थी अपने रोल नंबर और प्रश्नपत्र चयन का भी ध्यान नहीं देते कि फार्म में क्या भरा गया है। इसकी वजह से परीक्षाफल का साफ्टवेयर मिस मैच करता है और परीक्षाफल आईएनसी (अपूर्ण) दर्शाता है। उन्होंने छात्रों को भविष्य में ऐसी गलती न करने की हिदायत दी है। कुलपति ने कहा कि छात्रों से वार्ता के दौरान छात्रों के मांगपत्र पर कार्रवाई कर रिजल्ट का पुनर्परीक्षण किया जा रहा है। उनकी जायज मांगे मान ली गई हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.