अब नहीं झेल पा रहे मानसून की मार

दूसरे दिन भी गिरा मकान मां बेटियों सहित चार लोग घायल फसलें डूबीं लगातार हो रही बारिश ने राहत के साथ तबाही भी मचानी शुरू की बह रहे बुर्जी-बिटोरे रुक-रुक कर बारिश से कई स्थानों पर जलभराव।

JagranThu, 22 Jul 2021 04:55 AM (IST)
अब नहीं झेल पा रहे मानसून की मार

जासं, हाथरस : मानसून की सक्रियता लोगों को परेशान करने लगी है। रुक-रुक हो रही बारिश से शहर और कस्बों में जलभराव हो गया है। पानी आबादी की ओर बढ़ने लगा है। मकान गिरने लगे हैं। सिकंदराराऊ क्षेत्र में मकान व उनकी दीवार गिरने से मां बेटियों सहित चार लोग घायल हो गए। वहीं पानी भरने से बुर्जी-बिटोरे पानी में बहने लगे हैं। पेड़ उखड़ रहे हैं और उनकी शाखाएं टूटने से कई स्थानों पर रास्ता अवरुद्ध हो गए हैं। खेतों में भी जरूरत से अधिक पानी भर जाने से फसलों को नुकसान होने लगा है। बारिश के कारण बिजली के खंभों में करंट दौड़ रहा है। इससे हादसे की आशंका बढ़ गई हैं।

जनपद में रविवार की दोपहर से मानसून पूरी तरह सक्रिय हो गया है। रुक-रुककर रात और दिन में बारिश हो रही है। जगह-जगह जलमग्न सड़कें मुसीबत खड़ी कर रही हैं। कई जगह सड़कें उखड़ जाने से हादसे का डर सताने लगा है। गांव मुबारिकपुर निवासी मंगल सिंह के मकान की दीवार पर टीन शेड पड़ा हुआ था। रविवार से लगातार हो रही झमाझम बरसात के चलते बुधवार को दीवार भरभरा कर गिर पड़ी। उसकी चपेट में आकर मंगल की पत्नी गुड्डो देवी, 12 वर्षीय पुत्री अनामिका व छह वर्षीय पायल गंभीर रूप से घायल हो गईं। दीवार गिरने की आवाज सुन कर आसपास के लोग मौके पर पहुँचे। मलबे में दबी महिला व उसकी पुत्रियों को बाहर निकाला। उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया। गांव जिरौली कला में छह मकानों को नुकसान हुआ है। महिला गुड्डी देवी के मकान की रात को दीवार गिर जाने से वह उसके नीचे दब गई। ग्रामीणों ने उन्हें मलबे से बाहर निकाला। उनका उपचार एक निजी अस्पताल में चल रहा है। इसी गांव निवासी रोहित, मोहन, राजेश कुमार, सतेंद्र कुमार के मकान धराशायी हो चुके हैं।

पुरदिलनगर क्षेत्र के गांव जरेरा के किसान जितेंद्र पचौरी, दीन दयाल शर्मा, प्रेम शंकर, सुरेंद्र कुमार शर्मा, पिटू पचौरी, घनश्याम सिंह, प्रेम कुमार, प्रमोद पचौरी, पप्पू, हरीशंकर शर्मा, प्रेमपाल सिंह, परसराम की धान की फसलें डूब गई हैं और पानी गांव में घुस आया है। बारिश से रामस्वरूप, राजेंद्र, नरोत्तम सिंह, महेश कुमार, सुभाष चंद्र, पप्पू, परसादी लाल, अजय कुमार, लालाराम व अन्य लोगों के मकान गिर गए हैं। उखड़े पेड़, रास्ता अवरुद्ध

मंदिर परिसर में लगे पुराने पेड़ भी उखड़ गए, जिससे मंदिर क्षतिग्रस्त होने से बचा है। पुरदिलनगर-जलेसर रोड पर एक विशाल पेड़ गिर जाने से रात भर यातायात अवरुद्ध रहा। सुबह ग्रामीणों ने रोड पर गिरा पेड़ हटाया, तब यातायात शुरू हो सका। ग्राम प्रधान सुशील कुमार ने जिलाधिकारी से किसानों की बर्बाद फसलों पर मुआवजा गिरे मकानों की क्षतिपूर्ति दिलवाने की मांग की है। हसायन में भी जलभराव से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। घरों और दुकानों में घुसा पानी

संसू, सिकंदराराऊ : नगर पालिका ने कई मोहल्लों में पानी की निकासी की कोई व्यवस्था नहीं की है। पहले यहां का पानी तालाब में जाया करता था। तालाब में कालोनी बन जाने के कारण पानी का रास्ता अवरुद्ध हो गया है। पानी निकालने के लिए जो नाला छोड़ा गया था, उसका मुंह भी काफी संकरा कर दिया गया है, जिसकी वजह से पानी नहीं निकल पाता। बारहसैनी और खिजरगंज में सभी दुकानों और घरों में दो से ढाई फुट बरसात का पानी भर गया। बरसात के दिनों में यहां के लोगों के लिए आवागमन बहुत मुश्किल हो जाता है। रास्ते में गंदा पानी भरा रहता है। नालियों का गंदा पानी घरों में भरा हुआ है। महिलाओं को बरसात के गंदे पानी में ही खडे़ होकर खाना बनाना पड़ रहा है।

जीटी रोड पर हुए गहरे

गड्ढे, पलट रहे वाहन

संसू, सिकंदराराऊ : पंत चौराहे से लेकर कोतवाली चौराहे तक नगर पालिका ने डिवाइडर व फुटपाथ का निर्माण कराया है। फुटपाथ बन जाने के कारण सड़क से पानी नाले में नहीं जा पा रहा है। इसकी वजह से बारिश होते ही सड़क पर पानी भर जाता है, जो घंटों भरा रहता है। इसके कारण सड़क में गहरे गड्ढे हो गए हैं। पानी भरा होने के कारण लोगों को गड्ढों का आभास नहीं होता और गड्ढे में जाते ही वाहन पलट जाते हैं। अब तक कई ई रिक्शा, दो पहिया वाहन, आटो आदि पलट चुके हैं। जीटी रोड पर एक से डेढ़ फुट गहरे गड्ढों में पानी भरने से जगह-जगह तालाब जैसा नजारा बन गया है, जिसमें दोपहिया वाहन डगमगाते हुए निकलते हैं। चारपहिया वाहन भी हिचकोले खाते हैं। गड्ढों की गहराई का अंदाजा नहीं होने से अंधेरे में हालात और बदतर हो जाते हैं।

बरसात से विद्युत आपूर्ति

चरमराई, खंभों में करंट

जासं, हाथरस : बारिश होने से शहर व कस्बों के अलावा देहात क्षेत्र की बिजली व्यवस्था चरमरा गई है। लगातार बारिश से सब स्टेशनों पर ब्रेकडाउन बढ़ गए हैं। कई घंटे बिजली गुल रही है। वहीं जर्जर पोल और जर्जर तारों के कारण करंट भी दौड़ने लगा है। शहर में बुधवार को बागमूला चौराहे पर बिजली के खंभे में करंट आ गया। फ्यूज खोलने के बाद सही किया गया। इससे क्षेत्र की आपूर्ति बाधित रही। दो दिन पहले हुई बारिश से सूअर और गाय मर चुकी हैं। देहात क्षेत्र में तीन दिन से विद्युत आपूर्ति बाधित है। पुरदिलनगर क्षेत्र के गांव जिरोली कलां के ग्रामीणों का कहना है कि तीन दिन से बिजली न होने से सभी उपकरण बंद हैं। इनवर्टर और मोबाइल भी चार्ज नहीं हो रहे हैं। गांव के प्रधान मुकेश शर्मा ने बिजली विभाग के अधिकारियों से विद्युत आपूर्ति सुचारु करने की मांग की है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.