धनावंटन व काम में अंतर पर बिफरे कृषि सचिव

संवाद सहयोगी, हाथरस : जिले के नोडल अधिकारी विशेष सचिव कृषि बी.राम शास्त्री ने 50 लाख रुपये से अधिक की लागत से बन रहीं दो परियोजनाओं राजकीय महाविद्यालय कुरसंडा व सीएचसी सादाबाद का निरीक्षण किया। इनको जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। धनावंटन व कार्य में काफी अंतर मिलने पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की।

नोडल अधिकारी बी.राम ने सबसे पहले निर्माणाधीन राजकीय महाविद्यालय कुरसंडा पहुंचकर पाया कि प्रथम तथा द्वितीय तल का कार्य अंतिम दौर में है। कुछ कक्षाओं में शिक्षण पाया गया। प्रधानाचार्या ने बताया कि लैब, लाइब्रेरी व हॉस्टल का कार्य पूरा न होने से दिक्कतें आ रही हैं। इस पर कार्यदायी संस्था राजकीय निर्माण निगम के अफसरों को तत्काल प्राथमिक स्तर के कार्यों को पूरा करने के निर्देश दिए। मेन गेट पर चैनल व दरवाजा तत्काल लगाया जाए। भौतिकी लैब व ग्राउंड फ्लोर को सितंबर में पूरा कर लिया जाए। प्रधानाचार्य कक्ष में वेंटीलेशन के निर्देश दिए। कक्षा कक्षों में पंखे न लगे होने पर नाराजगी जाहिर की। हॉस्टल की गैलरी संकरी होने पर भी नाराजगी व्यक्त की। इसके बाद निर्माणाधीन सीएचसी सादाबाद के निरीक्षण में विभिन्न कमरों में जाकर निर्माण की गुणवत्ता परखी। ब्लू ¨प्रट से निर्माण कार्य परखे। सीएचसी के काउंस¨लग रूम, एलएमओ रूम, प्रतीक्षा कक्ष तथा डिस्पेंसरी देखे। सीएमओ ने अभिलेखों के रख रखाव की कोई व्यवस्था न होने की शिकायत की। शौचालय व मूत्रालय के अलावा कर्मचारियों के आवासों का भी निरीक्षण किया। जिलाधिकारी डॉ.रमाशंकर मौर्य ने नोडल अधिकारी द्वारा दिए निर्देशों का पालन कराने के लिए संबंधितों को निर्देश दिए। निरीक्षण के समय सीडीओ एसपी ¨सह, एसडीएम ज्योत्सना बंधु, पीडी डीआरडीए चंद्रशेखर शुक्ला, सीएमओ डा. बृजेश राठौर आदि अधिकारी थे। कानून व्यवस्था, विकास

कार्यों पर रखें फोकस

संस, हाथरस : जिले के नोडल अधिकारी ने जनपद में कानून व्यवस्था का राज कायम रखने, विकास व निर्माण कार्यों को गुणवत्ता सहित समय से पूरा करने के निर्देश अफसरों को दिए।

नोडल अधिकारी विशेष सचिव कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान बी. राम शास्त्री कलक्ट्रेट सभागार में जनपद की कानून व्यवस्था, विकास व निर्माण कार्यों की समीक्षा में कहा कि राजस्व वसूली के लक्ष्य को हर हाल में पूरा किया जाए। राजस्व न्यायालयों में लंबे समय से लंबित वादों का तत्काल निस्तारण किया जाए। बैनामा की ऑनलाइन प्रगति व प्रचार प्रसार की स्थिति परखी जाए। रोस्टर के अनुसार बिजली देने के लिए स्पष्ट कहा कि बिजली कागजों पर नही धरातल पर दिखाई देनी चाहिए। बिजली अफसरों की कार्य प्रणाली पर असंतोष जाहिर करते हुए सुधार लाने के निर्देश दिए। गांवों मे रोस्टर से सफाई कराने, शौचालय निर्माण के बाद उनके उपयोग के लिए वॉल पें¨टग कराने, शिकायतों के निस्तारण को चौपाल लगाने, सड़कों को गड्ढामुक्त करने, मरीजों को रेफर करने से बचने, आयुष्मान भारत के बेहतर संचालन, खारे पानी की समस्या से निजात के लिए शासन को प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए। बैठक में एसपी जयप्रकाश, एडीएम वित्त रेखा एस. चौहान, सीडीओ एसपी ¨सह, पीडी चंद्रशेखर शुक्ला, सीएमओ डा.ब्रजेश राठौर, डीएओ डिपिन कुमार, डीपीओ मुन्नी दिवाकर, डीपीआरओ शहनाज अंसारी आदि थीं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.