दीवार के विवाद में मां-बेटे से मारपीट, मुकदमा दर्ज

24 सितंबर को मां-बेटे के साथ हुई थी मारपीट आठ लोगों के खिलाफ एससी-एसटी सहित कई धाराओं में रिपोर्ट लिखाई गई।

JagranMon, 27 Sep 2021 04:28 AM (IST)
दीवार के विवाद में मां-बेटे से मारपीट, मुकदमा दर्ज

संवाद सूत्र, हाथरस : सादाबाद के गांव आरती में 24 सितंबर को मां-बेटे के साथ गांव के ही कुछ लोगों ने तब मारपीट व जातिसूचक शब्दों से अपमानित किया, जब दोनों अपने घर की दीवार सही करा रहे थे। सीओ के आदेश पर आठ आरोपितों के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट सहित अन्य धाराओं में मुकदमा सादाबाद कोतवाली में पंजीकृत कराया गया है।

गांव आरती निवासी जितेंद्र सिंह ने पुलिस उपाधीक्षक बह्म सिंह के आदेश पर गांव के ही लियाकत अली, रियासत, अरमान, हजरत अली, फजूला, शराफत अली, रिकू तथा रफी के खिलाफ कोतवाली में एससी-एसटी एक्ट सहित धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है। आरोप है कि 24 सितंबर दोपहर के एक बजे वह अपनी दीवार की मरम्मत करा रहे थे। तभी गांव के यह सभी लोग आए, इनकी हाथों में लाठी, डंडा, सरिया, ईंट, पत्थर फरसा चाकू लगे हुए थे और आते ही उन्हें पकड़ कर मारपीट की। वह उन लोगों से छूट कर अपने घर के अंदर भागा तो वह लोग भी उसके घर में घुस आए और जाति सूचक शब्दों से अपमानित किया। जितेंद्र को बचाने आए उसकी मां व भाई के साथ भी मारपीट कर दी। पुलिस अब रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच पड़ताल कर रही है। किशोरी से छेड़छाड़, रिपोर्ट

संस, हाथरस : कोतवाली हाथरस जंक्शन के एक गांव की किशोरी आगरा से अपने गांव 21 सितंबर को आ रही थी। गांव के निकट रास्ते में गांव के ही युवक ने छेड़छाड़ की। किशोरी ने घर पहुंचकर स्वजन को बताया। पुलिस ने तहरीर पर छेड़छाड़ व पाक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज कर लिया। छेड़छाड़ व मारपीट

की रिपोर्ट लिखाई

संस, हाथरस: हाथरस जंक्शन के एक गांव की महिला ने बेटी के साथ छेड़छाड़ व विरोध करने पर मारपीट करने का आरोप तीन सगे भाइयों सहित कई अज्ञात लोगों पर लगाया है। पुलिस ने तीनों भाइयों के अलावा एक अन्य नामजद सहित कई अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.