बूलगढ़ी प्रकरण की एसआइटी जांच की मांग पर सौंपा ज्ञापन

बूलगढ़ी प्रकरण की एसआइटी जांच की मांग पर सौंपा ज्ञापन
Publish Date:Tue, 29 Sep 2020 02:40 AM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, हाथरस : चंदपा के बूलगढ़ी में युवती पर हुए जानलेवा हमला व सामूहिक दुष्कर्म मामले में चार आरोपितों को जेल भेजे जाने को लेकर सोमवार दोपहर राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के पदाधिकारी व कार्यकर्ता एकत्रित होकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे। एक ज्ञापन देकर मामले की एसआइटी से जांच कराने की मांग रखी।

राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के राष्ट्रीय प्रचारक पंडित पंकज घवरैय्या सोमवार दोपहर को पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे। ज्ञापन में कहा है राजनीति चमकाने के लिए मनगढं़त तरीके से कहानी पेश कर तीन निर्दोष लोगों को जेल भेजा गया। घटना के बाद पीड़िता व उसकी मां ने जो बयान दिया था वह सर्वविदित है। तीन निर्दोष लोगों के जेल जाने से क्षेत्रीय सवर्ण समाज के लोगों में आक्रोश है। सामाजिक मान सम्मान को ठेस पहुंचाई गई है। एसआइटी जांच की मांग राष्ट्रीय प्रचारक के द्वारा की गई है।

पीड़ित परिवार से मिला

वाल्मीकि समाज संगठन

अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप चौहान वाल्मीकि (गाजियाबाद) हाथरस आए। वाल्मीकि महासभा के जिलाध्यक्ष निरंजन प्रकाश, महामंत्री हीरालाल एवं उनकी टीम के साथ थाना चंदपा पहुंचे। पीड़िता के भाई व मां सहित अन्य रिश्तेदारों से मिले। प्रांतीय अध्यक्ष ने पीड़िता के परिवार को धैर्य बंधाते हुए कहा कि न्याय दिलाया जाएगा। सांसद व विधायक की पहल पर जल्द ही पीड़ित परिवार को सीएम से मुलाकात कराई जाएगी। थाने से लौटने के बाद महासभा के राष्ट्रीय सचिव विनोद कुमार कोमल के मोहल्ला-माइयान स्थित आवास पर एक बैठक भी की। गाजियाबाद, अलीगढ़, मथुरा, हाथरस, वृंदावन, सिकंदराराऊ इगलास के लोग शामिल हुए, जिनमें प्रमुख रूप से विनोद कुमार कोमल, सतीश चंचल (प्रदेश सचिव), सुरेश खन्ना, हीरालाल, बी. एल. चौहान, विशन कुमार, राजीव प्रताप सिंह, अमरदीप आदि मौजूद थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.