सहालग में चमका सोना, सराफा बाजार में लौटी रौनक

सहालग में चमका सोना, सराफा बाजार में लौटी रौनक

वैवाहिक कार्यक्रमों के लिए जमकर हो रही खरीदारी आर्टीफिशियल ज्वेलरी में ब्राइडल सेट की मांग बढ़ी।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 03:05 AM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, हाथरस : वैवाहिक कार्याें को लेकर बाजार में खरीदारी होने लगी है। आभूषण खरीदने के लिए आ रहे ग्राहकों से सराफा बाजार में रौनक दिख रही है। आभूषणों की खरीदारी के साथ उनकी बुकिग भी कराई जा रही है। सोने व चांदी के साथ आर्टीफिशियल ज्वेलरी की दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ लगी हुई है।

वैश्विक महामारी कोरोना के चलते काफी समय से सराफा बाजार ठंडा पड़ा हुआ था। दीपावली के बाद अब सहालग ने बाजारों में रौनक लौटा दी है। 25 नवंबर को देवोत्थान एकादशी से वैवाहिक कार्यक्रम शुरू हो रहे हैं। इसके लिए पहले से ही तैयारी करने के लिए बाजार में लोग फर्नीचर, कपड़े, इलेक्ट्रोनिक्स के सामान के साथ आभूषणों की भी खरीदारी कर रहे हैं। सराफा बाजार में दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ नजर आ रही है। सोमवार को 24 कैरेट सोने की 10 ग्राम की कीमत 52000 और चांदी की कीमत 63500 प्रति किलोग्राम रही। डिमांड में सोने की ब्राइडल रिग

सोने के आभूषणों में सबसे अधिक खरीदारी की जा रही है। इसमें जंजीर, ब्राइडल रिग, कॉलर सेट, चूड़ी, मंगलसूत्र आदि की मांग अधिक है। वहीं चांदी के आभूषणों में बिछुआ, हाफ कमरबंद, पायजेब को बहुत पसंद किया जा रहा है। मनपसंद ज्वेलरी बनवाने के लिए एडवांस बुकिग भी कराई जा रही है। आर्टीफिशियल ज्वेलरी का भी क्रेज

शादी व समारोह में सजने की बात हो तो आर्टीफिशियल ज्वेलरी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। इसमें सबसे अधिक चिक व पोल्की सेट के साथ ब्राइडल सेट भी खूब पसंद किए जाते हैं। इसे 250 से लेकर 3000 रुपये में लिया जा सकता है। इनको प्रयोग करने के बाद आधी कीमत पर इन्हें वापस किया जा सकता है। इनका कहना है

सहालग के चलते बाजार में ग्राहक तो बढ़े हैं। इसमें सबसे अधिक खरीदारी बेटे व बेटियों के विवाह को लेकर हो रही है। वहीं उपहार देने के लिए भी लोग सोने व चांदी के आभूषणों की खरीदारी कर रहे हैं।

-मोहनलाल अग्रवाल सर्राफ आर्टीफिशियल ज्वेलरी में आकर्षक सेट दुकानों पर उपलब्ध हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि इसे बिना किसी डर के एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया सकता है।

-प्रिया गुप्ता, ग्राहक आर्टीफिशियल ज्वेलरी का चलन शुरू हो रहा है। इसे कम खर्चे पर आसानी से खरीदा जा सकता है। साथ ही प्रयोग करने के बाद आधी कीमत पर दुकानदार को वापस भी की जा सकती है।

-अमन कुमार, दुकानदार

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.