सफाई कर्मियों ने निकाली बाइक रैली

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन ओसी कलक्ट्रेट को थमाया।

JagranWed, 17 Nov 2021 04:05 AM (IST)
सफाई कर्मियों ने निकाली बाइक रैली

जासं, हाथरस : उत्तर प्रदेशीय पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ ने मंगलवार को पुरानी कलक्ट्रेट से विभिन्न मांगों को लेकर रैली निकाली जो मुरसान रोड से होकर कलक्ट्रेट पहुंची, जहां ओसी कलक्ट्रेट को पीएम व सीएम को संबोधित ज्ञापन दिया।

उत्तर प्रदेशीय पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष बद्रीलाल चौहान के नेतृत्व में पांच सूत्रीय मांगों को लेकर शहर में बाइक रैली निकाली गई।

इसके बाद प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंपा। पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष बद्रीलाल चौहान, जिला महामंत्री प्रवेंद्र चौधरी ने बताया कि सफाई कर्मियों की लंबित समस्याओं को लेकर वाहन रैली निकाली गई। रैली में सभी ब्लाकों के अध्यक्ष, मंत्री के साथ कार्यकारिणी के पदाधिकारी भी उपस्थित रहे। उन्होंने बताया कि सफाईकर्मियों की प्रमुख मांगों में फार्म-16, सेवा प्रमाणपत्र व वेतन प्रमाणपत्र एक ही पटल से दिलाया जाए, एसीपी से वंचित रह गए सफाईकर्मचारियों को एसीपी का लाभ दिलाया जाए, डीए की विसंगति के अंतर व विलंब से लगाई गई वेतन वृद्धि के बीच के अंतर का एरियर का भुगतान किया जाए, रविवार व सार्वजनिक अवकाश में बिना विशेष कारणों के मौखिक ड्यूटी न लगाई जाए। साफ कहा है कि मांगें न मानी गईं तो 23 नवंबर को लखनऊ में विशाल धरना दिया जाएगा, जिसमें हाथरस के सफाई कर्मचारी बड़ी संख्या में जाएंगे। सासनी में प्रधान संगठन ने

बीडीओ को दिया ज्ञापन

फोटो- 21

संसू, सासनी: अखिल भारतीय प्रधान संगठन की स्थानीय इकाई के बैनर तले सासनी ब्लाक के ग्राम प्रधानों ने मंगलवार को सासनी विकास खंड कार्यालय पर खंड विकास अधिकारी विकल कुमार यादव को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में प्रधानों की विभिन्न मांगों पर सरकार द्वारा अभी तक कोई ध्यान न दिए जाने पर 25 नवंबर से काम बंद कर असहयोग आंदोलन चलाने के निर्णय की जानकारी दी गई। ज्ञापन में ब्लाक अध्यक्ष यतेंद्र पाल सिंह ने कहा कि लखनऊ में महारैली की गई थी, जिसमें ग्राम प्रधानों ने अपनी मांगों को सरकार के समक्ष रखते हुए उस पर क्रियान्वयन के लिए 15 दिन का समय दिया था, लेकिन समयावधि समाप्त होने के बाद भी प्रदेश सरकार ने संगठन की किसी भी मांग पर कुछ नहीं किया। अब 25 नवंबर को पूरे प्रदेश में काम बंद करते हुए असहयोग आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। ग्राम प्रधानों, क्षेत्र पंचायत सदस्यों व जिला पंचायत सदस्यों की सुरक्षा के लिए शस्त्र लाइसेंस जारी करने में प्राथमिकता देने, जिला योजना समिति में प्रधानों को प्रतिनिधित्व दिए जाने, 10 लाख रुपये तक के कार्य के एस्टीमेट पास कराने में ग्राम सभा को पूर्ण अधिकार प्रदान करने सहित 13 सूत्री मांगों को पूरा करने की मांग की है। इस मौके पर हरेंद्र सिंह, ओमेंद्र, साबिर, सुमित, खूब सिंह, योगेंद्र कुमार, मानिक चंद्र, चंद्रपाल सिंह, विजय कुमार, प्रशांत कुमार, रेनू, लता शर्मा, हरिमोहन आदि ग्राम प्रधान मौजूद थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.