जनपदवासियों को सलाम, पहली बार बेटियों की संख्या हजार पार

-बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान लाया रंग -सेक्स रेशियो में प्रति हजार पुरुष पर बेटियों की संख्या 1097 पहुंची

JagranSat, 04 Dec 2021 11:09 PM (IST)
जनपदवासियों को सलाम, पहली बार बेटियों की संख्या हजार पार

हरदोई : बेटियों के जन्म के मामले में हरदोई प्रदेश में तीसरे स्थान पर आ गया है। पहले स्थान पर प्रयागराज और दूसरे पर गाजियाबाद है। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के आंकड़े में जिले में कन्या भ्रूण हत्या में कमी आई है। बालिका जन्म दर में सुधार से बेटों के मुकाबले 97 बेटियां अब ज्यादा है। यानी कि प्रति हजार बेटों पर 1097 बेटियां जन्म ले रहीं हैं।

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की ओर से 2019-20 में किए गए सर्वे पर यह आंकड़े जारी किए गए हैं। अधिकारियों का मानना है कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान और कन्या सुमंगला योजना से कन्या भ्रूण हत्या के प्रति जिले के लोगों में जागरूकता दिख रही है। लोग अब बेटियों को बेटों के बराबर मान रहे हैं और उनके स्वास्थ्य, शिक्षा आदि की व्यवस्था होने से लोगों में बेटियों के प्रति भ्रांतियों में कमी आइ है।

जनपद में पहली बार ऐसा हुआ है जब बेटों से अधिक बेटियां जन्म ले रही हैं और यह संख्या हजार के पार पहुंची है। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के आंकड़े में प्रति हजार बेटों पर 1097 बेटियां के जन्म लेने की बात सामने आई है। जबकि वर्ष 2015-16 यह संख्या 803 थी। वर्ष 2011 की जनगणना में प्रति हजार 868 और 2001 की जनगणना में 844 प्रति हजार फीमेल सेक्स रेशियो सामने आया था।

प्रदेश में हरदोई की स्थिति : प्रयागराज : 1191

गाजियाबाद : 1182

हरदोई : 1097

मंडल में हरदोई का पहला स्थान : जिला : बेटियों की संख्या

हरदोई : 1097

सीतापुर : 1011

उन्नाव : 960

लखनऊ : 950

लखीमपुर खीरी : 901

रायबरेली : 871

(नोट : प्रति हजार बेटों पर बेटियों की संख्या)

केंद्र सरकार ने जिले की पहल को देश में किया शामिल :

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान, कन्या सुमंगला योजना के प्रति लोगों में जागरूकता के लिए कार्यक्रम लगातार चलाए जा रहे हैं। बेटी बगीचा की पहल को केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने उप्र से हरदोई को वेस्ट प्रैक्टिसेस के रूप में शामिल किया है। समय के साथ लोगों की धारणा बदल रही है। बेटियां भी प्रतिभा के मामले में अब बेटों से कम नहीं हैं।

-अविनाश कुमार, जिलाधिकारी यूरेशिया व‌र्ल्ड रिकार्ड बनाया :

हरदोई को यूरेशिया व‌र्ल्ड रिकार्ड भी मिला है। अभियान के तहत एक स्थान पर अब तक की सर्वाधिक 11 हजार बेटियों की श्रृंखला बनाने और उनकी ओर से स्लोगन और चित्रकला में प्रतिभाग लिए जाने पर यह अवार्ड मिला है। अधिकारियों-चिकित्सकों और आमजन के लिए उन्मुखीकरण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। सुशील कुमार सिंह, जिला प्रोबेशन अधिकारी

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.