top menutop menutop menu

रैपिड रेल कॉरिडोर के लिए सरकार ने दिए सौ करोड़

फोटो : 13जीपीजी-7

-निर्माण को गति देने के लिए राज्य सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में किए गए प्रावधान से जारी की धनराशि

-चालू वित्त वर्ष में इस प्रोजेक्ट के लिए राज्य के बजट में की गई है नौ सौ करोड़ रुपये की व्यवस्था जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : दिल्ली-मेरठ रीजनल रैपिड रेल कॉरिडोर के निर्माण के लिए राज्य सरकार ने बजट में प्रावधान की गई राशि से नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन (एनसीआरटीसी) को 100 करोड़ रुपये जारी किए हैं। साथ ही शर्त लगाई है कि प्रोजेक्ट को समय से मानकों के अनुरूप पूरा किया जाए।

दिल्ली से गाजियाबाद के रास्ते मेरठ तक 82.15 किलोमीटर का रीजनल रैपिड रेल कॉरिडोर बनना है। साहिबाबाद से दुहाई तक 17 किलोमीटर कॉरिडोर का निर्माण तेजी से चल रहा है। हाल में दुहाई से शताब्दीनगर के बीच निर्माण कार्य शुरू कराया गया है। न्यू अशोक नगर से साहिबाबाद तक 5.80 किलोमीटर की भूमिगत लाइन बिछाने के लिए टेंडर प्रक्रिया चल रही है। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए राज्य के बजट में इस प्रोजेक्ट के लिए 900 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई थी। अब बजट से 100 करोड़ रुपये की पहली किस्त राज्य सरकार ने एनसीआरटीसी को जारी कर दी है। इससे प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य में गति बनी रहेगी।

रखा गया पहला सेगमेंट : कुछ ही दिनों में रीजनल रैपिड रेल के दिल्ली-मेरठ कॉरिडोर वास्तविक रूप में नजर आने लगेगा। एनसीआरटीसी ने सोमवार को मोरटा के पास लॉन्चिग गैंट्री की मदद से पहले से निर्मित सेगमेंट जोड़ कर वायाडक्ट (पुलनुमा हिस्सा) बनाने का काम शुरू कर दिया है। एनसीआरटीसी के प्रवक्ता सुधीर कुमार शर्मा ने बताया कि वसुंधरा स्थित कास्टिग यार्ड में सेगमेंट बनाकर उन्हें ट्रक से निर्माण स्थल तक लाया गया है। 34 मीटर के हिस्से में 12 सेगमेंट लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि वायाडक्ट दो पिलर के बीच पुल जैसा दिखने वाला हिस्सा होता है, जो ऊपर से समतल होता है। बाद में इस वायाडक्ट पर ही पटरियां बिछा कर रैपिड रेल का परिचालन किया जाएगा।

रैपिड रेल के प्रस्तावित स्टेशन

दिल्ली : सराय काले खां, अशोक नगर, आनंद विहार

गाजियाबाद : साहिबाबाद, गाजियाबाद (मेरठ तिराहा), गुलधर, दुहाई, मुरादनगर, मोदीनगर साउथ, मोदीनगर नॉर्थ

मेरठ : मेरठ साउथ, शताब्दी नगर, बेगमपुल, मोदीपुरम प्रोजेक्ट से जुड़े फैक्ट्स

-कुल 30,274 करोड़ रुपये आएगी लागत

-छह कोच की रैपिड रेल इस कॉरिडोर पर दौड़ेगी

-रैपिड रेल की अधिकतम स्पीड 180 किमी प्रति घंटा तक होगी, न्यूनतम 100 किमी प्रति घंटा

-मेरठ में रैपिड रेल के कॉरिडोर पर मेट्रो ट्रेन भी चलेगी, इसके लिए छह अतिरिक्त स्टेशन बनाए जाएंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.