top menutop menutop menu

बस संचालकों ने की अतिरिक्त कर माफ करने की मांग

जागरण संवाददाता, हापुड़:

यूपी बस ट्रैवेल एसोसिएशन के आह्वान पर हापुड़ स्कूल बस ऑपरेटर एसोसिएशन, दिल्ली गढ़ प्राइवेट बस यूनियन, मेरठ बुलंदशहर प्राइवेट बस यूनियन के संयुक्त तत्वावधान में एआरटीओ को मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंपा। एसोसिएशन के सदस्यों ने सांकेतिक धरना प्रदर्शन भी किया। सरकार से कोरोना वायरस के कारण वित्तीय वर्ष 2020-21 के रोड टैक्स व अतिरिक्त कर माफ करने का अनुरोध किया।

ज्ञापन में एसोसिएशन के अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा, उपाध्यक्ष योगेंद्र त्यागी, महासचिव वहाब चौधरी ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते सभी स्कूल बंद हैं। मार्च महीने से इन स्कूलों में लगी बसें शोपीस बनी हुई हैं। लॉकडाउन के दौरान पूरा देश बंद रहा था। ऐसे में सरकार से उम्मीद थी कि टैक्स जमा में माफी दिलाई जाएगी। राहत पैकेज में भी यह उम्मीद की गई थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

इस मामले में ट्रांसपोर्टर तुषार त्यागी द्वारा परिवहन मंत्री और सीएम योगी आदित्यनाथ को भी ट्वीट कर समस्या से अवगत कराया गया है। इस समस्या के विरोध में एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने जोरदार हंगामा किया। परिवहन निगम कार्यालय में अधिकारियों को ज्ञापन देकर, जल्द समस्या के निस्तारण की मांग की गई। आरोप लगाया गया कि कलक्ट्रेट पर अधिकारियों ने पदाधिकारियों का ज्ञापन लेने से ही इन्कार कर दिया। ट्रांसपोर्टरों का कहना है कि निजी बस संचालक, रैली, चुनाव और दूसरी जरूरतों में प्रशासन को वाहन मुहैया कराकर सहयोग करते हैं, लेकिन उनके प्रति रवैया ठीक नहीं है। संचालकों ने मांग पूरी न होने पर हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है।

ज्ञापन देने वालों में वहाब त्यागी, अभिषेक, अमित शर्मा, दलजीत, शिवकुमार, प्रवीण शर्मा, ब्रजभूषण त्यागी, वसीम, लीलू, सचिन गुप्ता, फहीम आदि मौजूद रहे। वहीं, अपर जिलाधिकारी जयनाथ यादव का कहना है कि उनके पास ज्ञापन देने कोई नहीं आया और न हीं उन्हें जानकारी है। आरोप निराधार हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.