top menutop menutop menu

शुद्ध पेयजल से 90 हजार आबादी होगी 100 फीसदी तृप्त

शुद्ध पेयजल से 90 हजार आबादी होगी 100 फीसदी तृप्त
Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 09:01 PM (IST) Author: Jagran

गौरव भारद्वाज, हापुड़

गांव में पानी की टंकी होने के बावजूद शुद्ध पेयजल से वंचित परिवार के लोगों के दिन बहुरने वाले हैं। केंद्र सरकार की हर घर नल योजना के तहत पाइप लाइन का विस्तार किया जा रहा है। पहले चरण में जनपद के 13 गांवों के 90 हजार से अधिक आबादी को 100 फीसदी शुद्ध पेयजल से तृप्त किया जाएगा। इस पर खर्च होने वाले लगभग 6.86 करोड़ रुपये के प्रस्ताव को शासन ने मंजूरी दे दी है। केंद्र सरकार ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत हर घर नल-हर घर जल योजना शुरू की है। इसके तहत पहले चरण में उन गांवों को चिह्नित किया गया है, जहां राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन योजना के तहत पेयजल योजनाएं संचालित हैं। जनपद में ऐसी 65 ग्राम पंचायतें हैं, जिनमें पेयजल योजनाएं संचालित हैं, जबकि सात ग्राम पंचायतों में पेयजल योजनाएं निर्माणाधीन हैं, जिनमें से अधिकतर ग्राम पंचायतों का काम 90 फीसदी पूरा हो चुका है। शासन के आदेश पर जल निगम ने हाल ही में 65 ग्राम पंचायतों का सर्वे कराया, जिसमें गांव की आबादी, परिवार के मुखिया का नाम, मोबाइल नंबर, आधार नंबर, सदस्यों की संख्या, हैंडपंप, पानी की टंकी का कनेक्शन आदि जानकारी जुटाई गई। इसका मुख्य उद्देश्य यह था कि गांव के कितने लोगों को ओवरहेड टैंक से शुद्ध पेयजल मिल रहा है और कितने वंचित हैं। गांव में कितनी पाइप लाइन खराब है और कितनी बिछाने की आवश्यकता है। सर्वे कराने के बाद जल निगम के अफसरों ने शासन को प्रस्ताव तैयार कराकर भेजा। शासन ने कुल 65 गांवों के प्रस्तावों में से 20 प्रतिशत यानि 13 ग्राम पंचायतों में काम शुरू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इन 13 गांवों में लगभग 6.86 करोड़ रुपये खर्च होंगे, जिससे पाइप लाइन का विस्तार किया जाएगा। 13 हजार से अधिक नए कनेक्शन लगाए जाएंगे। जहां पाइप लाइन खराब है, वहां नई बिछाई जाएगी। एक भी घर को वंचित नहीं छोड़ा जाएगा। इस बार ये रहेंगी विशेषताएं-

जल निगम के अधिशासी अभियंता संजय जैन ने बताया कि अक्सर देखा जाता था कि घर के बाहर पानी का कनेक्शन कराने वाले लोग लापरवाही बरतते थे। टंकी खराब होने पर मरम्मत तक नहीं करा पाते थे, जिसके चलते उसमें से पानी बर्बाद होता था। इसलिए इस बार किसी भी घर के बाहर पानी का कनेक्शन नहीं दिया जाएगा। नए कनेक्शन घर के अंदर दिए जाएंगे। पुराने कनेक्शनों को भी शिफ्ट करके घर के अंदर किया जाएगा। ताकि कनेक्शनधारक पानी को बर्बाद न होने दें। इन गांवों में होगा पेयजल पाइप लाइन का विस्तार धौलाना विकासखंड क्षेत्र के गांव पिपलैड़ा, गालंद, छिजारसी, सपनावत, लाखन, शाहपुर फगौता, पिलखुवा देहात, सिखैड़ा है, जबकि गढ़मुक्तेश्वर विकासखंड क्षेत्र के गांव मोहम्मदपुर रुस्तमपुर, दौताई, आलमनगर और अठसैनी है। जबकि सिभावली विकासखंड का गांव वीरसिंहपुर है। इन गांवों में करीब 90 हजार से अधिक जनसंख्या निवास करती है, जिनमें सिर्फ 30 फीसदी घरों में ही पानी का कनेक्शन था।

क्या कहते हैं अधिकारी

जिले के 13 गांवों में राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन योजना के तहत पेयजल योजनाएं संचालित हैं, जिनमें हाल ही में सर्वे कराया गया था। सर्वे में मुख्य रूप से उन परिवारों को चिह्नित किया गया था जो इस योजना का लाभ नहीं उठा पा रहे थे। सर्वे के बाद शासन को प्रस्ताव भेजा गया। शासन ने 65 गांवों के सापेक्ष 13 गांवों के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इनमें करीब 13 हजार कनेक्शन जोड़े जाएंगे। नई पाइप लाइन बिछाई जाएगी। इस पर करीब 6.86 करोड़ रुपये खर्च होंगे। जल्द ही इस पर काम शुरू कराया जाएगा। संजय जैन, अधिशासी अभियंता, जल निगम

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.