मरीजों को परेशान कर रहा वायरल फीवर व सीने का संक्रमण

कोरोना संक्रमण के बाद अब फीवर व सीने का संक्रमण परेशान कर रहा है। गोरखपुर जिला अस्पताल की ओपीडी प्रत‍िद‍िन करीब एक हजार मरीज आ रहे हैं। सबसे ज्यादा मरीज बुखार खांसी सांस फूलने डायरिया शुगर हाइपरटेंशन व थायराइड के आ रहे हैं।

Pradeep SrivastavaWed, 15 Sep 2021 09:48 PM (IST)
कोरोना संक्रमण के बाद अब लोगों को फीवर व सीने का संक्रमण परेशान कर रहा है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। बारिश व बाढ़ के मौसम में संक्रामक बीमारियों ने दस्तक देनी शुरू कर दी है। वायरल फीवर के मरीजों की संख्या बढ़ी है, साथ ही सांस के रोगी भी बड़ी संख्या में जिला अस्पताल के मेडिसिन ओपीडी में पहुंच रहे हैं। बुधवार को मरीजों की भीड़ इतनी ज्यादा हो गई कि डाक्टर दोपहर बाद ढाई बजे तक मरीज देखते रहे, जबकि ओपीडी का समय दो बजे तक होता है।

जिला अस्पताल में आ रहे बड़ी संख्‍या में मरीज

जिला अस्पताल के ओपीडी में बुधवार को बड़ी संख्या में मरीज पहुंचे। कुल 1474 मरीज देखे गए। पर्चा काउंटर से लेकर डाक्टर कक्ष तक हर जगह लंबी लाइन लगी रही। सबसे ज्यादा मरीज मेडिसिन ओपीडी में आए थे, बुखार, खांसी, सांस फूलने, डायरिया, शुगर, हाइपरटेंशन व थायराइड की शिकायत लेकर 468 मरीज आए थे। इसमें 120 वायरल फीवर व 115 सांस के रोगी थी। इसके बाद सबसे ज्यादा संख्या आर्थो के ओपीडी में रही, कुल दो सौ मरीज आए थे।

अन्य ओपीडी में मरीजों की संख्या 103 के नीचे रही। कोविड संक्रमण काल के तत्काल बाद मानसिक रोगियों की संख्या में वृद्धि हुई थी, जो अब लगभग आधी हो गई है। बाल रोग विभाग में 86 मरीज पहुंचे, जबकि आमतौर पर इनकी संख्या ढाई सौ के आसपास होती है। मानसिक रोग विभाग में प्रतिदिन 70 से 100 मरीज देखे जाते हैं, लेकिन बुधवार को सिर्फ 40 मरीज ही पहुंचे।

इन विभागों के ओपीडी में देखे गए इतने मरीज

मेडिसिन- 486

आर्थो- 200

सर्जरी- 69

हृदय रोग- 35

आंख रोग- 103

चेस्ट- 103

दंत रोग- 35

बाल राेग- 86

ईएनटी- 126

वरिष्ठ नागरिक- 07

आयुष- 15

मानिसक रोग- 40

चर्म रोग- 169

मेडिसिन ओपीडी में वायरल फीवर व सांस के रोगियों की संख्या लगभग 30 फीसद थी। इसके अलावा हाइपरटेंशन, शुगर, डायरिया व कब्ज आदि की शिकायत लेकर लोग आए थे। सभी को दवाएं व जांच लिख दी गई है। कुछ दिनों से मरीजों की संख्या बढ़ी है। - डा. बीके सुमन, फिजिशियन, जिला अस्पताल।

अस्पताल की व्यवस्था बहुत अच्छी कर दी गई है। इसलिए मरीज निजी अस्पतालों में न जाकर जिला अस्पताल आ रहे हैं। हमारे पास डाक्टर भी अच्छे हैं और दवाएं भी बहुत अच्छी आई हैं। इसलिए मरीजों की भीड़ बढ़ी है। हम सभी के इलाज की समुचित व्यवस्था कर रहे हैं। - डा. एसी श्रीवास्तव, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक, जिला अस्पताल।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.