बच्चों के भोजन के लिए स्कूल में ही तैयार हो रही सब्जी, सेहतमंद हो रहे बच्चे

जिस स्कूल में बच्चे अपना भविष्य संवारने के लिए पढ़ाई कर रहे हैं। शिक्षा के उसी मंदिर में उन्हें सेहत की डोज भी मिल रही है। प्राथमिक स्कूल कौड़ीराम में विकसित किचन गार्डन में इन दिनों पर्याप्त मात्रा में हरी सब्जियों की पैदावार हो रही है।

Rahul SrivastavaWed, 15 Sep 2021 06:19 PM (IST)
स्कूल के किचन गार्डेन में सब्जी तोड़ती रसोइया। सौ.स्वयं

गोरखपुर, प्रभात कुमार पाठक : जिस स्कूल में बच्चे अपना भविष्य संवारने के लिए पढ़ाई कर रहे हैं। शिक्षा के उसी मंदिर में उन्हें सेहत की डोज भी मिल रही है। प्राथमिक स्कूल कौड़ीराम में विकसित किचन गार्डन में इन दिनों पर्याप्त मात्रा में हरी सब्जियों की पैदावार हो रही है। इसका उपयोग बच्चों के मध्याह्न भोजन में हो रहा है। यह उन विद्यालयों लिए नजीर है, जो अभी भी बाहर से खरीदी गई सब्जियों पर निर्भर हैं।

10 डिसमिल भूमि पर हो रही खेती में जैविक खाद का प्रयोग

खास बात यह है कि विद्यालय परिसर में 10 डिसमिल भूमि पर हो रही खेती में सिर्फ जैविक खाद का प्रयोग किया जाता है। परिसर में ही सब्जियों की पैदावार करीब 15 किलोग्राम तक हो जाती है, इससे स्कूल में उपस्थित बच्चों की आवश्यकता बाहर से खरीदी गई थोड़ी-बहुत सब्जियों को साथ मिलाकर पूरी हो जाती है। यह जिले का इकलौता स्कूल है, जहां किचन गार्डन विकसित करने की सरकार की योजना पूरी तरह मूर्त रूप ले चुकी है।

किचन गार्डन विकसित करने के लिए अवमुक्त हुआ था धन

पहले चरण में जिले के दस स्कूलों में किचन गार्डन विकसित करने के लिए धन अवमुक्त हुआ था। इनमें से कौड़ीराम के अलावा प्रावि जंगल अयोध्या खोराबार, प्रावि मनिकापुर बेलघाट, प्रावि हरदी सहजनवां, प्रावि डोमहर सहजनवां तथा प्रावि बरबल कोठा पिपरौली में सब्जियों की पैदावार हो रही है, लेकिन प्राथमिक विद्यालय कौड़ीराम से तुलना करें तो यह विद्यालय अभी काफी पीछे हैं। प्रावि सिंघा जंगल कौड़िया, प्रावि धर्मपुर कैंपियरगंज, प्रावि मियां पकड़ी सहजनवां तथा उप्रावि पाली में अभी इसकी तैयारी चल रही है।

इन सब्जियों की हो रही पैदावार

रसोइयों की मेहनत से स्कूल में इस समय किचन गार्डन में सरपुतिया, तरोई, बोड़ा, भिंडी, बैंगन व हरी मिर्च की भरपूर पैदावार हो रही है। देखरेख की जिम्मेदारी स्कूल के शिक्षकों की है।

रसाेइयों की मेहनत व जैविक खाद के प्रयोग से पैदा हो रही हरी सब्जियां

कौड़ीराम प्रथम प्राथमिक स्कूल के प्रधानाचार्य प्रदीप कुमार ने कहा कि स्कूल के रसोइयों की मेहनत व जैविक खाद के प्रयोग से इन दिनों हरी सब्जियों की भरपूर पैदावार हो रही है। इनका उपयोग यहां नामांकित चार सौ के सापेक्ष उपस्थित बच्चों के मध्याह्न भोजन में किया जाता है। रोजाना औसतन बच्चों की कुल संख्या के आधे से अधिक मौजूद रहते हैं। शासन से प्रति बच्चे मध्याह्न भोजन उपलब्ध कराने के लिए कन्वर्जन कास्ट के रूप में 4.97 रुपये मिलते हैं। ऐसे में स्कूल में सब्जियां की पैदावार होने से इस मद में जो भी थोड़ा बहुत पैसा बचता है उसका उपयोग बच्चों को फल व अन्य पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने में किया जाता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.