उच्‍च प्राथमिक स्कूलों में वैदिक गणित लागू, आसान तरीके से पढ़ाने के लिए शिक्षक होंगे प्रशिक्षित

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेंद्र नारायण सिंह की फाइल फोटो।

बेसिक शिक्षा परिषद की कक्षा छह से आठ की गणित की किताबों में एक पूरा अध्याय वैदिक गणित का भी है। अभी तक शिक्षकों का इस पर विशेष ध्यान नहीं था। इस बार इसे बच्‍चों को रुचिकर तरीके से पढ़ाने के लिए शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

Satish chand shuklaSat, 27 Feb 2021 10:56 AM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। वैदिक गणित के सूत्रों के जरिए परिषदीय विद्यालयों के बच्‍चे गणित के जटिल से जटिल सवाल हल कर सकेंगे। जल्द ही इसके लिए उच्‍च प्राथमिक विद्यालयों के गणित विषय के शिक्षकों का प्रशिक्षित किया जाएगा। योजना को अमली जामा पहनाने के लिए वर्तमान में प्रदेश के प्रत्येक जनपद से दो-दो शिक्षकों को राज्य शैक्षिक प्रबंधन एवं प्रशिक्षण संस्थान (सीमैट) प्रयागराज में प्रशिक्षित किया जा रहा है। वहां सै लौटने के बाद यह अन्य शिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे।

दर्जा आठ तक की पुस्‍तक में वैदिक गणित का पूरा अध्‍याय

बेसिक शिक्षा परिषद की कक्षा छह से आठ की गणित की किताबों में एक पूरा अध्याय वैदिक गणित का भी है। अभी तक शिक्षकों का इस पर विशेष ध्यान नहीं था। इस बार इसे बच्‍चों को रुचिकर तरीके से पढ़ाने के लिए शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। ताकि शिक्षक अब कक्षा में गणित के अन्य पाठ्यक्रम के साथ ही वैदिक गणित के अध्याय पर भी विशेष ध्यान दे सकें। प्रशिक्षण लेकर लौटने पर शिक्षक प्रवीण कुमार मिश्र ने बताया कि गणित को सरल बनाने के लिए वैदिक साहित्य से सोलह सूत्र खोजकर निकाले हैं। जिनका उपयोग करते हुए गणित के जटिल सवालों को आसानी से हल किया जा सकता हैं। उ'च प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षण के दौरान ही ब'चों को भाग निखलम्, भाग परावत्र्य, ध्वजांक विधि और घन सूत्र, घनमूल विलोकनम्, वर्ग सूत्र एक न्यूनेन पूर्वेण, एकाधिके पूर्वेण, वर्गमूल विलोकनम् आदि विधियों की जानकारी देने से उन्हें भविष्य में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में आसानी होगी।

जिले के दो शिक्षक हो चुके हैं प्रशिक्षित

वैदिक गणित पढ़ाने के लिए जिले के दो शिक्षक मास्टर ट्रेनर का प्रशिक्षण ले चुके हैं। प्रयागराज में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले इन शिक्षकों में जिले के गगहा ब्लाक के उच्‍च प्राथमिक विद्यालय बेलकुर में सहायक अध्यापक प्रवीण कुमार मिश्र एवं कौड़ीराम ब्लाक के उच्‍्च प्राथमिक विद्यालय नाउरदेर में सहायक अध्यापक यशुदेव राय शामिल हैं। बीएसए बीएन सिंह का कहना है कि वैदिक गणित के प्रयोग से बच्‍चे न केवल गणित के सवालों को शीघ्र हल कर सकेंगे बल्कि उनमें बुद्धि और एकाग्रता का भी विकास होगा। शासन के निर्देश पर जल्द ही जनपद के उच्‍च प्राथमिक विद्यालयों के गणित शिक्षकों का प्रशिक्षण शुरू किया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.