इस बार 49 दिन रहेगी कोहरे की रफ्तार, ठंड में औसत से 24 दिन अधिक रहेगा कोहरा

आने वाले दिनों में कोहरे का फाइल फोटो।
Publish Date:Fri, 23 Oct 2020 01:02 PM (IST) Author: Satish Shukla

गोरखपुर, जेएनएन। इस बार ठंड के मौसम में 49 दिनों तक कोहरा छाया रहेगा। कोहरा औसतन 25 दिन का होता है। लोगों को 24 दिन अधिक कोहरे स  जूझना होगा। बीते 16 वर्षों में सर्वाधिक 72 दिन का कोहरा वर्ष 2016 में छाया था।

जमीन में बनी है नमी

मौसम विशेषज्ञ कैलाश पांडेय ने इस बार ठंड के लिए कुल 49 दिनों का कोहरे का पुर्वानुमान जताया है। उनका कहना है कि इस वर्ष सितंबर में अच्छी वर्षा के कारण जमीन में नमी बनी हुई है। पुरवा हवा लगातार चल रही है। इसे ला-निना वर्ष कहा जा रहा है। इसके चलते ठंड भी औसत से कुछ अधिक रहेगी। उन्होंने कहा कि गणितीय माडलों के अनुसार इस वर्ष नवंबर व दिसंबर में 23 दिनों तक कोहरा पड़ सकता है। जनवरी, 2021 व फरवरी, 2021 में 26 दिनों कोहरा पडऩे की संभावना है।

जानिए किसे कहते हैं कोहरा

मौसम विज्ञान के अनुसार जब सतही दृश्यता (सरफेस विजिबिलटी) एक किलोमीटर से कम हो जाए और नमी 75 फीसद से अधिक हो, इस स्थिति को कोहरा छाना कहते हैं। यह तीन प्रकार का होता है।

हल्का कोहरा- 500 से 100 मीटर

मध्यम कोहरा- 200 से 500 मीटर

घना कोहरा- 0 से 200 मीटर

औसत कोहरे का दिन

नवंबर- 2 दिन

दिसंबर- 8 दिन

जनवरी- 12 दिन

फरवरी- 3 दिन

कुल - 25 दिन

(आइएमडी डाटा के अनुसार 1981 से 2010)

बीते वर्षों की ठंड में कोहरे के दिन(नवंबर से फरवरी तक)

वर्ष                      दिन

2010                   20

2011                    31

2012                    28

2013                   35

2014                  44

2015                   37

2016                   72

2017                    30

2018                    54

2019                    44

आज हो सकती है हल्की बूंदाबांदी

बंगाल की खाड़ी में निम्न वायु दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इसके चलते शुक्रवार को जिले के कुछ स्थानों पर हल्की बारिश के आसार हैं।

रात में ठंड का अहसास कर रहे हैं लोग

पिछले कुछ दिनों से लोग रात में ठंड का अहसास कर रहे हैं। शहर में अधिकांश घरों में रात दो बजे के बाद पंखा बंद करने की नौबत आ जा रही है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.