कंबल में रहेगा अजगर, लकड़ी के तखत पर आराम करेंगे शेर, बाघ व तेंदुआ

गोरखपुर चिड़ियाघर प्रशासन ठंड से जानवदों को बचाने की व‍िशेष तैयारी कर रहा है। शेर पटौदी व शेरनी मरियम जल्द ही ब्लोअर की गर्म हवा में रहेगा। बाड़े में दो तखत भी रखे जाएंगे। इस पर पटौदी व मरियम आराम फरमाएंगे।।

Pradeep SrivastavaPublish:Wed, 01 Dec 2021 07:50 AM (IST) Updated:Thu, 02 Dec 2021 08:12 AM (IST)
कंबल में रहेगा अजगर, लकड़ी के तखत पर आराम करेंगे शेर, बाघ व तेंदुआ
कंबल में रहेगा अजगर, लकड़ी के तखत पर आराम करेंगे शेर, बाघ व तेंदुआ

गोरखपुर, जागरण संवााददाता। गोरखपुर चिड़ियाघर का शेर पटौदी व शेरनी मरियम जल्द ही ब्लोअर की गर्म हवा में रहेगा। बाड़े में दो तखत भी रखे जाएंगे। इस पर पटौदी व मरियम आराम फरमाएंगे।। बाघ अमर बाघिन मैलानी के भी बाड़े में यही व्यवस्था रहेगी। इसके अलावा उनके बाड़े में हीटर की भी व्यवस्था रहेगी। ताकि जरूरत पड़ने पर उसका भी उपयोग किया जा सके। इसके अलावा भालू नितीश व राजू के बाड़े में सिर्फ हीटर तखत की व्यवस्था रहेगी। दोनों भालू हीटर की आंच लेंगे और बाड़े में तखत पर बैठकर आराम करेंगे।

ब्लोअर की गर्म हवा में रहेगा पटौदी, हीटर की आंच लेगा नितीश

चिड़ियाघर प्रशासन ठंड के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए यह तैयारी कर रहा है। इसके लिए जूकीपरों से भी सलाह ले रहा है। चिड़ियाघर में तमाम संवेदनशील वन्यजीव मौजूद हैं। इन वन्यजीवों को ठंड से बचाव के लिए तैयारी की जा रही है। इसमें शेर, बाघ व तेंदुआ को एक श्रेणी में रखा गया है। उनके बाड़ों की व्यवस्था एक जैसी होगी। प्रत्येक बाड़े में वन्यजीवों की क्षमता व उसकी संवेदनशीलता के हिसाब से व्यवस्था की जा रही है। प्रत्येक जानवरों के बाड़े में क्राल की छत व दीवार टाट पल्ली बिछी रहेगी ताकि ठंड से जानवरों का बचाव हो सके।

सभी सापों को मिलेगा एक-एक कंबल

सबसे खास व्यवस्था सांप घर की रहेगी। उसके बाड़े में ठंड व गर्म एसी की व्यवस्था है। सांपघर के चारों अजगर को एक-एक कंबल दिये गए हैं। अजगर उसमें दुबका रहेगा। सांप घर में पुआल की भी व्यवस्था रहेगा। पुआल पर सर्प रहेंगे और उसके ऊपर कंबल रहेगा। इसके हिरन के बाड़े में सिर्फ पुआल की व्यवस्था रहेगी।

चिड़ियाघर में ठंड को ध्यान में रखते हुए व्यवस्था की जा रही है। क्राल को टाट-पल्ली व परदों से आवश्यकतानुसार ढका जाएगा। ताकि जानवरों को ठंड हवाओं से बचाया जा सके। सभी इंतजाम जानवरों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए किए जाएंगे। - डा. योगेश प्रताप सिंह, चिकित्साधिकारी- चिड़ियाघर गोरखपुर।