रेत से गढ़ दी मोहक आकृति, 150 कलाकारों ने लिया हिस्सा Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। सुभसा स्कल्पटर्स की ओर से राप्ती नदी के राजघाट पर राज्य स्तरीय रेत शिल्प प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें शामिल प्रतिभागियों ने रेत पर ही मनमोहक आकृति उकेर दी। उल्‍लेखनीय है कि इस प्रतियोगिता में कुल 150 कलाकारों ने हिस्‍सा लिया था।

10 टीमों ने लिया था हिस्‍सा

राज्‍यस्‍तरीय सीनियर वर्ग की रेत शिल्‍प प्रतियाेगिता में छत्रपति साहू जी महराज विश्वविद्यालय कानपुर, दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय, लव फॉर आर्ट गु्रप गोरखपुर, पंडित हरिसहाय शिक्षण संस्थान जैती बेलघाट, बहादुर यादव मेमोरियल पीजी कॉलेज भटनी देवरिया, चांदमती देवी एजुकेशन एंड ट्रेनिंग स्कूल आदि की करीब 10 टीमों के  कुल 150 कलाकारों ने प्रतिभाग कर अपनी रेत शिल्प प्रतिभा का प्रदर्शन किया। जूनियर वर्ग की प्रतियोगिता में करीब 180 कलाकार बच्‍चों ने हिस्सा लिया।

बच्‍चों को आगे बढ़ाने में मिलती है मदद

आयोजन के मुख्य अतिथि डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल ने कहा कि ऐसे आयोजन बच्‍चों को अपनी प्रतिभा को निखारने का अवसर देते हैं। प्रतियोगिताएं हमेशा आगे बढ़ाने का काम करती हैं। उन्‍होंने कहा कि इस तरह की प्रतियाेगिताएं समय-समय पर होनी चाहिए।

प्रतिभा को सिर्फ अवसर चाहिए

विशिष्ट अतिथि गोरखनाथ मंदिर के सचिव द्वारिका तिवारी ने कहा कि नदी के किनारे रेत शिल्प का निर्माण कर कलाकारों ने यह साबित किया है कि प्रतिभा को बस अवसर चाहिए। आमंत्रित अतिथि अतुल सराफ और अभिषेक पांडेय ने रेत से बनाई कलाकृतियों की जमकर सराहना की। प्रतियोगिता का आयोजन भाष्कर विश्वकर्मा, संत किशोर चौहान, सुशील गुप्ता, डॉ. विवेक चौधरी, ने किया। बेहतर रेत शिल्प बनाने वाले प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया गया। इस दौरान नंद किशोर गौड़, प्रवीण पांडेय, डॉ. रेखा रानी शर्मा, बृजेश यादव, अखिलेश निषाद, अनिल सोनकर, अशोक प्रजापति आदि मौजूद रहे। 

1952 से 2020 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.