लोकार्पण के अगले दिन ही हो गई महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय में प्रवेश परीक्षा

महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय में अकादमिक गतिविधियां शुरू हो गईं। लाकार्पण के अगले दिन यानी रविवार को विश्वविद्यालय परिसर में एएनएम कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया जिसके लिए विश्वविद्यालय के अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक शनिवार को लोकार्पण के बाद से ही जुट गए थे।

Pradeep SrivastavaMon, 30 Aug 2021 07:50 AM (IST)
गोरखपुर स्‍थ‍ित महायोगी गुरु गोरखनाथ विश्वविद्यालय। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द द्वारा शनिवार को लोकार्पित महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय में रविवार से ही अकादमिक गतिविधियां शुरू हो गईं। लाकार्पण के अगले दिन यानी रविवार को विश्वविद्यालय परिसर में एएनएम कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया, जिसके लिए विश्वविद्यालय के अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक शनिवार को लोकार्पण के बाद से ही जुट गए थे। विश्वविद्यालय की पहली परीक्षा में ही 72 फीसद अभ्यर्थियों की उपस्थिति रही।

एएनएम कोर्स में प्रवेश के लिए आयोजित परीक्षा में 72 फीसद अभ्यर्थियों की रही उपस्थिति

कुलसचिव डा. प्रदीप कुमार राव ने बताया कि इस प्रवेश परीक्षा के लिए 60 सीटों पर कुल 842 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। इनमें से 570 अभ्यर्थी परीक्षा देने पहुंची। परीक्षा का आयोजन विश्वविद्यालय के गुरु श्रीगोरक्षनाथ कालेज आफ नर्सिंग के 12 कक्षों में शुचिता के साथ किया गया। दो वर्ष के इस कोर्स के लिए अभ्यर्थियों का साक्षात्कार मंगलवार को सम्पन्न हो जाएगा। चयन की प्रक्रिया चार सितंबर तक पूरी कर ली जाएगी। डा. राव ने बताया कि बीएससी नर्सिंग और एमएमसी नर्सिंग की प्रवेश प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। बीएससी नर्सिंग में प्रवेश के लिए आवेदन की तिथि पांच सितंबर और एमएससी नर्सिंग में प्रवेश के लिए आवेदन की तिथि 30 सितंबर निर्धारित की गई है।

पांच पैरा मेडिकल कोर्स भी जल्द शुरू होंगे

इसके अलावा पांच पैरा मेडिकल कोर्स भी जल्द शुरू होगा। इसकी आधिकारिक औपचारिकताओं को पूरी करने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। ये कोर्स हैं- डिप्लोमा इन लैब टेक्निशियन, डिप्लोमा इन आप्टोमेट्री, डिप्लोमा इन आर्थोपेडिक एंड प्लास्टर टेक्निशियन, डिप्लोमा इन इमरजेंसी एंड ट्रामा केयर टेक्निशियन, डिप्लोमा इन डायलिसिस टेक्निशियन और डिप्लोमा इन एनेस्थिसिया एंड क्रिटिकल केयर टेक्निशियन। यह सभी पाठ्क्रम दो वर्ष के होंगे। इन सभी के लिए 60-60 सीटें निर्धारित हैं।

नीट से होगा बीएएमएस में प्रवेश

कुलसचिव डा. प्रदीप राव ने बताया कि विश्वविद्यालय के बीएएमएस पाठ्यक्रम में प्रवेश नीट के माध्यम से इसी सत्र से लिया जाएगा। इसके लिए आधारिक संरचना तैयार कर ली गई है। मानक पर लैब का निर्माण अंतिम चरण में है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.