बदल जाएगी गोरखपुर की सूरत, केवल ड्रेनेज स‍िस्‍टम पर खर्च होंगे 3268 करोड़ रुपये

गोरखपुर में लाइट डिटेक्शन एंड रेंजिंग (लिडार) सर्वे के आधार पर 3268 करोड़ की योजना बनाई गई है। सात अगस्त को नगर निगम के सदन हाल में होने वाली नगर निगम बोर्ड की बैठक में लिडार सर्वे का प्रेजेंटेशन किया जाएगा।

Pradeep SrivastavaWed, 04 Aug 2021 08:05 AM (IST)
गोरखपुर के व‍िकास के ल‍िए 268 करोड़ की योजना बनाई गई है। - फाइल फोटो

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। Development of Gorakhpur: गोरखपुर शहर के ड्रेनेज प्लान की पूरी जानकारी 70 निर्वाचित और 10 मनोनीत पार्षदों को भी दी जाएगी। लाइट डिटेक्शन एंड रेंजिंग (लिडार) सर्वे के आधार पर 3268 करोड़ की योजना बनाई गई है। सात अगस्त को नगर निगम के सदन हाल में होने वाली नगर निगम बोर्ड की बैठक में लिडार सर्वे का प्रेजेंटेशन किया जाएगा। सर्वे करने वाली कंपनी को प्रेजेंटेशन के लिए निर्देश दिए जा चुके हैं। नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने बताया कि पार्षदों को भी पूरी योजना की जानकारी होनी चाहिए। इसके लिए बोर्ड की बैठक में लिडार सर्वे को रखा जाएगा। ल‍िडार सर्वे के अधार पर यह तय क‍िया जाएगा क‍ि कहां कौन सा काम होगा।

नगर निगम बोर्ड की बैठक में रखा जाएगा मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का मामला

सूरजकुंड के सुभाष चंद्र बोस नगर कालोनी में 12 मंजिला मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का प्रस्ताव सात अगस्त को नगर निगम बोर्ड की बैठक में रखा जा सकता है। नगर निगम के अफसर इस पर मंथन कर रहे हैं। बोर्ड में पार्षदों को प्रस्ताव की पूरी जानकारी देने के साथ ही बजट की व्यवस्था के बारे में भी बताया जाएगा। नगर निगम प्रशासन 150-200 करोड़ रुपये का बांड जारी कर मल्टीस्टोरी बिल्डिंग बनाने की योजना पर काम कर रहा है। बांड जारी करने के लिए एचडीएफसी बैंक से बात चल रही है।

25 लाख से कर्मचारियों के आवास का होगा जीर्णोद्धार

नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने वार्ड नंबर 48 सूरजकुंड धाम नगर में सफाई कर्मचारियों के लिए बनाए गए आवासों का निरीक्षण किया। कई आवास जर्जर मिले तो कई में रंग-रोगन की जरूरत दिखी। नगर आयुक्त ने बताया कि सफाई कर्मचारियों के आवास के लिए महापौर सीताराम जायसवाल ने 25 लाख रुपये स्वीकृत कर दिए हैं।

दोपहर में सूरजकुंड धाम नगर पहुंचे नगर आयुक्त ने एक-एक आवास की स्थिति देखी। सफाई कर्मचारियों के स्वजन ने बताया कि आवास जर्जर हो चुके हैं। बारिश के दिनों में छत से पानी टपकता है। जर्जर स्थिति को देखकर कई सफाई कर्मचारी चले गए हैं। जो हैं वह हमेशा डर के साये में रहते हैं। इस कारण कई आवास खाली हैं। नगर आयुक्त ने मुख्य अभियंता सुरेश चंद को निर्देश दिए कि वह आवासों की मरम्मत कराकर आवासविहीन सफाई कर्मचारियों को दें। इस दौरान पार्षद प्रतिनिधि जुबेर अहमद, उप नगर आयुक्त संजय शुक्ल, कनिष्ठ प्रभारी स्वास्थ्य अखिलेश कुमार श्रीवास्तव, स्टेनो बृजेश तिवारी, विसंक्रमण सुपरवाइजर विन्ध्याचल आदि मौजूद रहे।

सड़क निर्माण के लिए दो लाख स्वीकृत

नगर आयुक्त ने शक्तिनगर वार्ड के टीचर कालोनी में सड़क निर्माण के लिए मौके पर ही फाइल देखी और दो लाख रुपये स्वीकृत कर दिए। नगर आयुक्त वार्ड नंबर 37 शक्तिनगर का निरीक्षण करने पहुंचे थे। यहां पार्षद आलोक सिंह विशेन ने एक सड़क का निर्माण कराने का अनुरोध किया। बताया कि सड़क न होने से नागरिकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। नगर आयुक्त ने पार्षद के साथ कालोनी का निरीक्षण भी किया। नगर आयुक्त ने बताया कि सड़क निर्माण के लिए तत्काल दो लाख रुपये स्वीकृत किए गए। पार्षद ने एक नाली को नाले से जोडऩे की बात कही ता अवर अभियंता नवीन श्रीवास्तव को एस्टीमेट बनाने के निर्देश दिए गए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.