World blood donor day: दूसरों की जान बचाने को आगे आए रक्तदाता, 103 से अधिक लोगों ने किया रक्तदान Gorakhpur News

जिला अस्पताल में आयोजित शिविर का उद्घाटन सीडीओ इंद्रजीत सिंह ने किया। फिजियोथेरेपिस्ट डा. रविंद्र ओझा ने सबसे पहले रक्तदान किया। शिविर में कुल 30 यूनिट रक्त का संग्रह हुआ। इस अवसर पर सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय समेत कई डाक्‍टर उपस्थित थे।

Satish Chand ShuklaTue, 15 Jun 2021 05:47 PM (IST)
रक्‍तदान करती सेंट जोसफ स्‍कूल की महिला शिक्षक, जागरण।

गोरखपुर, जेएनएन। विश्व रक्तदाता दिवस के उपलक्ष्‍य पर बड़ी संख्या में लोग दूसरों की जान बचाने के लिए आगे आए। 103 से अधिक लोगों ने रक्तदान किया। जिला अस्पताल, बीआरडी मेडिकल कालेज, गुरुश्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय व लाइफ लाइन चैरिटेबल ट्रस्ट में शिविर का आयोजन किया गया। बारिश के बावजूद लोग शिविरों में पहुंचे और रक्तदान के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की।

जिला अस्पताल में आयोजित शिविर का उद्घाटन सीडीओ इंद्रजीत सिंह ने किया। फिजियोथेरेपिस्ट डा. रविंद्र ओझा ने सबसे पहले रक्तदान किया। शिविर में कुल 30 यूनिट रक्त का संग्रह हुआ। इस अवसर पर सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय, जिला अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. एसी श्रीवास्तव, ब्लड बैंक प्रभारी डा. एसके यादव आदि उपस्थित थे।

मेडिकल कालेज में आयोजित रक्तदान शिविर का उद्घाटन प्राचार्य डा. गणेश कुमार ने किया। 20 लोगों ने रक्तदान किया। इस अवसर पर पैथोलाजी विभाग की अध्यक्ष डा. शैला मित्रा व ब्लड बैंक प्रभारी डा. राजेश कुमार राय आदि उपस्थित थे। गुरुश्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय में आयोजित शिवर में रितेश ङ्क्षसह, रजनीश कुमार, सौरभ प्रताप, सिद्धार्थ ङ्क्षसह, मधुसूदन, हिमांशु उपाध्याय, संतोष, चैतन्य सहित 25 से अधिक लोगों ने रक्तदान किया। इस अवसर पर ब्लड बैंक प्रभारी डा. अवधेश अग्रवाल ने रक्तदाताओं को सम्मान पत्र, की-ङ्क्षरग आदि भेंट कर सम्मानित किया। लाइफ लाइन चैरिटेबल ट्रस्ट में आयोजित शिविर में 28 लोगों ने रक्तदान किया। ट्रस्ट के डा. विनय राय, प्रवीन कुमार श्रीवास्तव, डा. विभाग ङ्क्षसह, विभव गुप्ता, इम्तियाज अहमद खान व विवेक आदि मौजूद थे।

रक्तदान से बड़ा पुण्य दूसरा नहीं

गोरखपुर : रक्तदान से बड़ा पुण्य कोई दूसरा नहीं है। हम रक्तदान कर दूसरों का जीवन बचा सकते हैं। क्योंकि रक्त केवल मनुष्य के शरीर में निर्मित हो सकता है, वहीं से इसे प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए सभी लोगों को रक्तदान के लिए आगे आना चाहिए। यह बातें प्रदेश के औषधि नियंत्रक डा. एके जैन ने कही। वह गुरुश्री गोरक्षनाथ ब्लड बैंक के तत्वावधान में विश्व रक्तदाता दिवस पर आयोजित वर्चुअल संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। राज्य रक्त संक्रमण परिषद की गीता अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश में लगभग 300 ब्लड बैंक कार्यरत हैं। करोना काल में भी रक्त संग्रह में बहुत कमी नहीं आई। केवल 40-50 हजार यूनिट ही रक्त संग्रह कम हुआ था। संगोष्ठी को डा. प्रशांत पांडेय, जय सिंह, जशपाल सिंह आदि ने भी संबोधित किया। संगोष्ठी से चिकित्सालय के अपर निदेशक डा. कामेश्वर सिंह भी जुड़े रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.