अधिकारियों पर कार्रवाई के बाद से मधवलिया गोसदन में गायों के मरने का सिलसिला जारी, 46 पशुओं ने तोड़ा दम Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। शासन स्तर से हो रही निगरानी के बाद भी गोसदन मधवलिया में गोवंशीय पशुओं के मरने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मौत का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। मधवलिया गोदसदन के मामले में जिलाधिकारी समेत सात अधिकारियों पर हुई कार्रवाई के बाद से ही गोवंशीय पशुओं के मरने का क्रम लगतार जारी है। रविवार को गोसदन मधवलिया में छह और गोवंशीय पशुओं की मौत हो गई। जबकि 14 पशु बीमार हैं। छह दिनों में मौत का आंकड़ा 46 तक पहुंच गया। रविवार को प्रशासन द्वारा कराई गई पशुओं की गणना में यह संख्या घटकर 909 रह गई हैं। उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. एके गिरी के नेतृत्व में पशुओं का पोस्टमार्टम कराया गया। अधिकांश के पेट में प्लास्टिक मिलने की पुष्टि हुई हैं।

शासन की तरफ से आई टीम कर रही निगरानी

मालूम हो कि गोसदन में पशुओं की लगातार हो रही मौत पर शासन के निर्देश पर संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग लखनऊ के डा. अनिल कुमार शर्मा के नेतृत्व में डा. शशि गुप्ता और डा. पंकज कुमार की तीन सदस्यीय टीम गोसदन में कैंप कर रही है और पशुओं का इलाज कर रही है।

गोसदन में बाहरी पशुओं को लेने पर लगी रोक

उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. एके गिरी ने कहा कि लखनऊ से आई विशेषज्ञों की टीम ने गोसदन में बाहरी पशुओं को लेने पर रोक लगा दी। आशंका है कि संक्रमण होने की वजह से पशुओं के मरने की तादाद काफी बढ़ रही है। सब कुछ सामान्य होने के बाद ही उ'चाधिकरियों के निर्देश पर आगे का फैसला लिया जाएगा।

1546 गायों के गायब होने के मामले में मुकदमा

गोसदन मधवलिया से गायों के गायब होने के मामले में रविवार को ठूठीबारी पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ चोरी का मुकदमा दर्ज किया है। अब गोसदन मधवलिया कांड की जांच पुलिस करेगी। अपर आयुक्त कृष्णकांत सैनी के निर्देश पर प्रभारी सीवीओ डा.अवध बिहारी ने गोसदन से गायों के चोरी होने की तहरीर ठूठीबारी थाने में दे दी थी। दो दिनों की जांच के बाद उच्चाधिकारियों के निर्देश पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया। 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.