नाथपंथ के वैश्विक प्रदेय पर विद्वान करेंगे मंथन, मुख्‍यमंत्री करेंगे उदघाटन Gorakhpur News

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍य नाथ की फाइल फोटो।

उद्घाटन व समापन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहेंगे। सेमिनार में स्पेन से भगवान नाथ आस्ट्रिया से योगी हालमन नाथ ब्राजील से योगिनी देवकीनाथ अमेरिका के मिसिगन यूनिवर्सिटी से प्रो. माधव देश पांडेय समेत नाथ पंथ पर काम करने वाले विद्वान मंथन करेंगे।

Publish Date:Mon, 25 Jan 2021 11:42 AM (IST) Author: Satish chand shukla

गोरखपुर, जेएनएन। महायोगी गुरुश्री गोरक्षनाथ शोध पीठ, दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के तत्वावधान में 20 से 22 मार्च तक विश्वविद्यालय में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सेमिनार आयोजित किया जाएगा। मुख्य विषय होगा 'नाथपंथ के वैश्विक प्रदेय। उद्घाटन व समापन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहेंगे। सेमिनार में स्पेन से भगवान नाथ, आस्ट्रिया से योगी हालमन नाथ, ब्राजील से योगिनी देवकीनाथ, अमेरिका के मिसिगन यूनिवर्सिटी से प्रो. माधव देश पांडेय समेत पूरी दुनिया में नाथ पंथ पर काम करने वाले विद्वान व शिक्षाविद् मंथन करेंगे। कुल 35 से 40 तकनीकी सत्रों में वे आफ व आनलाइन जुड़ेंगे। आयोजन को लेकर बनी समितियां खाका तैयार कर रही हैं।

देश-विदेश के विद्वानों को भेजा जा रहा आमंत्रण

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो राजेश सिंह के निर्देशन में तैयारियां जोर शोर से चल रही हैं। देश-विदेश के विद्वानों व शिक्षाविदों को आमंत्रण भेजा जा रहा है। समन्वयक सभी विषय के सत्रों को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। सेमिनार में मारीशस से डा. विश्वानंद पुटिया, मध्यप्रदेश के डा. श्रीहरि सिंह गौर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डा. बलवंत जानी, इंडियन काउंसिल के चेयरमैन प्रो. आरसी सिन्हा, अमेरिका से कपिलनाथ, दिल्ली यूनिवर्सिटी से प्रो. सुधीर सिंह, महाराष्ट्र से योगी विलासनाथ, रूस से योगी मत्स्येंद्र, बांग्लादेश से डा. कुशल बी. चक्रवर्ती, ङ्क्षहदू -बुद्ध -क्रिश्चियन ओकाया परिषद के अध्यक्ष प्रो. नीम चंद्र भौमिक, जेएनयू से प्रो. कपिल कपूर, रोहतक के बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय के प्रो. राम सजन पांडेय, हिमांचल प्रदेश सेंट्रल यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति प्रो. हरमहेंद्र सिंह बेदी आदि भी शामिल होंगे।

विभिन्न सत्रों के विषय

सेमिनार की संयोजक व अधिष्ठाता कला संकाय प्रो. नंदिता सिंह ने बताया कि सेमिनार के प्रत्येक उपविषय पर पांच तकनीकी सत्रों का आयोजन होगा। आयोजन समिति ने जिन उपविषयों का चयन किया गया है। उनके नाम कुछ इस प्रकार हैं- भारतीय योग परंपरा एवं नाथ पंंथ, दर्शन साधना, साहित्य और नाथपंथ, राष्ट्र चिंतन, राष्ट्र निर्माण एवं नाथपंथ, नाथ पंथ: सामाजिक, सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक आयाम, नाथ पंथ के सांस्कृतिक स्थल एवं पर्यटन।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.