Gorakhpur Coronavirus News: गोरखपुर में रिकार्ड 1092 कोरोना पॉजिटिव मिले, 17 संक्रमितों की मौत

गोरखपुर में कोरोना संक्रमित 17 लोगों की मौत हो गई है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर में 4 घंटे में जिले में 1092 संक्रमित मिले हैं। बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में 17 मरीजों ने दम तोड़ दिया। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में अब तक कोरोना से मौत की संख्या 405 हो गई है।

Pradeep SrivastavaFri, 23 Apr 2021 07:30 AM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। कोरोना संक्रमितों की संख्या ने अब तक का सारा रिकार्ड तोड़ दिया है। 24 घंटे में जिले में 1092 संक्रमित मिले हैं। बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में 17 मरीजों ने दम तोड़ दिया। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल पर मृतकों की संख्या पांच दर्ज की गई है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में अब तक कोरोना से मौत की संख्या 405 हो गई है। हालांकि हकीकत में यह संख्या बहुत ज्यादा हो चुकी है।

सबसे ज्यादा बुरे हालात एक बार फिर ग्रामीण क्षेत्र के होते जा रहे हैं। लगातार दो दिनों से ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या शहर से ज्यादा मिल रही है। कोविड प्रोटोकाल को लेकर ग्रामीणों की बेपरवाही से स्थिति बिगड़ती जा रही है। ग्रामीण क्षेत्र में 543 तो शहरी क्षेत्र में 511 संक्रमित मिले। 38 संक्रमित अलग-अलग थाना क्षेत्रोंं के हैं। जिले में पिछले साल से अब तक संक्रमितों की संख्या 32 हजार 707 हो चुकी है। 24 हजार 374 लोग स्वस्थ हो चुके हैं।

मृतकों में गोरखपुर के 12 शामिल

बाबा राघवदास मेडिकल कालेज मेें मृत हुए 17 संक्रमितों में 12 गोरखपुर जिले के हैं। इनमें बारीपार के 55 वर्षीय व्यक्ति, पिपराइच की 41 वर्षीय महिला, खजनी की 62 वर्षीय महिला, बशारतपुर की 52 वर्षीय महिला, सुभाष नगर का 72 वर्षीय पुरुष, दाउदपुर की 70 वर्षीय महिला, चौरीचौरा की 39 वर्षीय महिला, रामजानकी नगर की 52 वर्षीय महिला, मालवीय नगर के 70 वर्षीय पुरुष, 58 वर्षीय महिला और सहारा एस्टेट में रहने वाले 59 वर्षीय व्यक्ति शामिल हैं। देवरिया की 45 और 70 वर्षीय महिला, लखनऊ के 71 वर्षीय पुरुष, सिद्धार्थनगर के 54 वर्षीय पुरुष, संतकबीरनगर के 60 वर्षीय पुरुष की मौत मेडिकल कालेज में हुई है।

517 ने कोरोना को हराया

कोरोना संक्रमित तेजी से ठीक हो रहे हैं। गुरुवार को 517 ने कोरोना को हराया और पूरी तरह ठीक हो गए। सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय ने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले लोग कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए कोरोना से जंग जीत रहे हैं। कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है। वेंटिलेटर पर रहे तीन मरीज भी ठीक होकर घर गए हैं।

संक्रमित शिक्षक की मौत

देवरिया जिला निवासी सुधीर कुमार मिश्र की कोरोना से चरगांवा स्थित एक निजी अस्पताल में गुरुवार सुबह मौत हो गई। वह सलेमपुर के प्राथमिक विद्यालय बंजरिया में सहायक अध्यापक के पद पर कार्यरत थे। पंचायत चुनाव में उनकी ड्यूटी रामपुर कारखाना में लगी थी। प्रशिक्षण के दौरान ही वह संक्रमित हो गए थे।

इलाज के लिए भटकते रहे मैनेजर, हुई मौत

कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद स्टेट बैंक के मैनेजर 52 वर्षीय आरसी दुबे बुधवार को पूरे दिन भर्ती होने के लिए परेशान रहे। स्वजन उन्हें भर्ती कराने के लिए कई अस्पतालों में पहुंचे लेकिन जगह नहीं मिली। देर रात उनकी मौत हो गई। नगर निगम के उपसभापति ऋषि मोहन वर्मा ने बताया कि कोविड प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार कराते हुए घर को सैनिटाइज करा दिया गया है।

कोरोना से मौत, अंतिम संस्कार के लिए कोई आगे नहीं आया

बासगांव थाना क्षेत्र के परसिया रामनगर गांव निवासी 55 वर्षीय व्यासमुनि पांडेय की कोरोना संक्रमण से गुरुवार शाम मौत हो गई। इसकी जानकारी के बाद कोई शव का अंतिम संस्कार कराने के लिए आगे नहीं आया। देर रात तक शव घर के अंदर पड़ा था।

लक्षण दिखने पर व्यासमुनि ने बासगांव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर जांच कराई। उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। आरोप है कि डाक्टरों ने इलाज के लिए अस्पताल भेजने की बजाय घर जाने को कह दिया। गुरुवार शाम चार बजे मौत हो गई। एसडीएम विनय पांडेय ने गुरुवार शाम बताया था कि कोविड प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार किया जाएगा लेकिन देर रात तक कोई नहीं पहुंचा था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.